बिहार: सरस्वती पूजा को लेकर प्रशासन का निर्देश- दिन में तालाब में हो मूर्ति विसर्जन

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Feb 2021, 9:15 PM IST
  • सरस्वती पूजा को लेकर बिहार प्रशासन ने 17 जनवरी को दिन में ही नदी के बजाए तालाब में मूर्ति विसर्जन करने के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा प्रशासन ने सरस्वती पूजा में कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करने को कहा है.
बिहार प्रशासन ने सरस्वती पूजा को लेकर कई निर्देश जारी किए हैं. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में सरस्वती पूजा को लेकर तैयारी जोर-जोर से चल रही है.  प्रशासन ने कई निर्देश जारी किए हैं. प्रशासन ने 17 जनवरी को दिन में ही मूर्ति विर्सजन के निर्देश दिए हैं. प्रशासन ने ये भी कहा कि मूर्ति विसजन गंगा नदी की बजाए तालाबों में किया जाए. इसके अलावा विश्वविद्यालय और कॉलेज प्रशासन को सरस्वती पूजा के लिए कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.

सरस्वती पूजा पर कानून व्यवस्था रखने को लेकर पुलिस मुख्यालय सुरक्षा इंतजाम में जुट गया है. इसके लिए अद्धसैनिक बलों के साथ ही जिलों में पुलिस की रिजर्व फोर्स की भी तैनाती की जाएगी. पुलिस मुख्यालय में इसको लेकर एक बैठक भी हो चुकी है. सरस्वती पूजा में सुरक्षा के लिए बिहार सरकार ने केन्द्र सरकार से 3 कंपनी अर्द्धसैनिक बल की मांग की है.

बिहार मंत्रिमंडल में अपराधियों को जगह दी गई- पप्पू यादव

बिहार में सरस्वती पूजा के लिए 15 से 19 फरवरी तक अद्धसैनिक बलों की तैनाती की जाएगी. राज्य सरकार ने जिन कंपनी की मांग की है उसमें एक रैफ कंपनी की कंपनी की भी मांग है. बिहार में एक रैफ कंपनी मुजफ्फरपुर में है. अगर बिहार को तीन कंपनी अर्धसैनिक बल मिलते हैं तो उनको पटना के अलावा भागलपुर, दरभंगा और सीतामढ़ी में से किन्हीं दो जिलों में तैनात किए जाएंगे.

दो दिन के दिल्ली दौरे पर बिहार CM नीतीश कुमार, PM मोदी से भी करेंगे मुलाकात

अर्धसैनिक बलों के अलावा बिहार पुलिस की रिजर्व फोर्स को इन जिलों में तैनात किया जाएगा. बड़े पुलिस अधिकारियों के पास बलों की नई कंपनी रिजर्व के तौर पर रहती है. कानून व्यवस्था में दिक्कत आने पर बीएमपी को भी तैनात किया जा सकता है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें