BJP बागी नेता सुषमा साहू का नामांकन रद्द, कहा-सत्ता के खिलाफ होने की सजा मिली

Smart News Team, Last updated: 18/10/2020 10:55 AM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में निर्दलीय चुनाव लड़ रही बीजेपी की बागी नेता सुषमा साहू का नामांकन सेक्शन 364 का हवाला देकर रद्द कर दिया गया है. 
निर्दलीय चुनाव लड़ रही बीजेपी की बागी नेता सुषमा साहू का नामांकन रद्द.

पटना. बीजेपी की बागी नेता सुषमा साहू बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र से नामांकन रद्द होने के बाद निर्दलीय चुनाव नहीं लड़ पाएंगी. सुषमा ने इस पर कहा कि सत्ता के खिलाफ जाकर चुनाव लड़ने की सजा मिल रही है. सुषमा के अनुसार नामांकन 14 अक्टूबर को हुआ था. रिटर्निंग ऑफिसर के पास यह अधिकार था कि वे नामांकन को स्वीकार करें लेकिन फिर भी उन्होंने सेक्शन 364 का हवाला देकर नामांकन रद्द कर दिया. सुषमा ने सत्ता के खिलाफ भी अपना गुस्सा दिखाया. सुषमा साहू ने ये बातें शनिवार को हो रहें संवाददाता सम्मेलन में कही. नामांकन को स्वीकार नहीं करने के बाद सुषमा के आंसू रुके नहीं और वे फूट-फूट कर रोईं.

सुषमा साहू ने बनिए की बेटी होने के कारण यह सजा मिलने की बात कही साथ ही यह भी कहां की सत्ताधारी लोगों के नामांकन रद्द नहीं होते. बनिया जाति हो एक बंधुआ वोटर माना जाता है अगर मैं आज एक बड़े बाप की बेटी या बड़े घर की पत्नी होती तो मेरा नामांकन रद्द नहीं किया जाता. उन्होंने चुनाव लड़ने का कारण बताते हुए कहा कि वे सत्ता में धीरे-धीरे परिवर्तन लाना चाहती है. 

बिहार चुनाव: चिराग पासवान ने BJP कैंडिडेट श्रेयसी सिंह को की जीताने की अपील

उन्होंने उन लोगों पर शिकंजा कसा जो लोग सत्ता में रहकर पूरे 5 साल तक चुनाव के दौरान किए गए वादों को पूरा नहीं करते अपना मुंह तक नहीं दिखाते वे लोग दोबारा सत्ता में आ जाते हैं और इसके पीछे का कारण सिर्फ उनका तगड़ा मैनेजमेंट बताया. इसी बात पर उन्होंने कहा जो सत्ता के खिलाफ लड़ना जाते हैं उनके नामांकन रद्द हो जाते हैं.

बिहार चुनाव: अमित शाह बोले-BJP की जेडीयू से अधिक सीटें आने पर भी नीतीश बनेंगे CM

सुषमा साहू ने कहा बीजेपी में उनके कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं किया जाता. उन्होंने अपने लिए यह बात कहीं कि मैं कोई अपराध नहीं कर रही थी,केवल अपने क्षेत्र से चुनाव लड़ने का अधिकार मांग रही थी. इसके बाद उन्होंने कहा कि आगे वह खुद अपना रस्ता बनाएंगी और नई रणनीतियों पर काम करेंगी वे रुकेंगे नहीं. उन्होंने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है यह बात भी उन्होंने सभी को रोते हुए बताई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें