CM नीतीश का चुनावी कैंपेन शुरू, बोले- बिहार में नही लग सकता बड़ा उद्योग

Smart News Team, Last updated: 12/10/2020 09:19 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जदयू की तरफ से चुनाव प्रचार की शुरुआत कर दी है. सीएम नीतीश कुमार ने जहां अपने पहले चुनावी भाषण में विकास कार्यों की चर्चा की, वहीं लालू-राबड़ी राज पर जमकर हमला बोला.
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए जदयू की तरफ से सीएम नीतीश कुमार ने चुनाव प्रचार की शुरुआत कर दी है

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए चुनाव प्रचार का आगाज कर दिया है. जदयू अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में जहां विकास कार्यों की चर्चा की, वहीं लालू-राब़ड़ी राज पर जमकर निशाना साधा. सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमारी सरकार ने दलितों की हत्या होने पर परिवार वालों को नौकरी देने का नियम बनाया है. इस बात पर भी कुछ लोग सवाल उठा रहे हैं. क्या वो दलितों का उत्थान नहीं चाहते. संविधान में जो अधिकार मिला था उसे नियम बनकार लागू किया है. इसमें भी कुछ लोगों को परेशानी है. हमारी सरकार महादलितों के लिए काम कर रही है तो इस पर कुछ लोगों को परेशानी है. हमें वोट की चिंता नहीं सेवा करना ही हमारा धर्म है.

सीएम नीतीश कुमार ने आगे कहा कि आज देख रहे हैं कि कुछ लोग बिहार के बारे में आर्टिकल लिख रहे हैं. लेकिन यह नहीं देख रहे कि हमारी विकास दर 10 फीसदी से अधिक है. यह सही है कि राज्य में कोई बड़ा उद्योग नहीं लगा लेकिन छोटे स्तर पर कई उद्योग लगे हैं. हमारे यहां बड़ा उद्योग नहीं लग सकता. हमलोगों ने पूरी कोशिश करके देख ली है लेकिन बिहार में बड़े उद्योगपति नहीं आए. बड़े उद्योगपति समुद्री किनारे वाले राज्यों को पसंद करते हैं, लेकिन आज कल लोग कुछ भी बोल रहे हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव: राजद का कैंपेन सॉन्ग लॉन्च, नया नारा- तेजस्वी भव:

लालू-राबड़ी राज पर हमला बोलते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पहले कुछ काम होता था क्या? पहले आपदा मे क्या होता था? आज जो लोग बोल रहे हैं, उनके राज में कुछ होता था क्या? लिस्ट बनते ही रह जाता था, लेकिन पीड़ित परिवार को कुछ नहीं मिलता था. सीएम ने कहा कि जब हमाररी सरकार आई तो हमने कह दिया कि सरकारी खजाने पर पहला हक आपदा पीड़ितों का है. बिहार में कोरोना संकट हो या फिर बाढ़ की आपदा हमारी सरकार हर कदम पर लोगों के साथ खड़ी रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें