नीतीश ने वर्चुअल रैली से फूंका चुनावी बिगुल, उपलब्धियां गिनाईं, विपक्ष को घेरा

Smart News Team, Last updated: 07/09/2020 04:53 PM IST
  • सोमवार से जदयू ने डिजिटल रैली के माध्यम से अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कर दी है. इस मौके पर नीतीश ने कोरोना काल में किए गए कामों सहित अपने 5 साल की उपलब्धियां गिनाईं. इसके साथ ही विपक्ष पर भी जमकर निशाना साधा.
कपूरी सभागार में निश्चिय संवाद के नाम से रैली को संबोधित करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पटना. बिहार में विधानसभा चुनाव की सरगर्मी तेज हो गई है. सोमवार को जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सीएम नीतीश कुमार ने जदयू के वर्चुअल प्लेटफार्म jdulive.com के माध्यम से लोगों को संबोधित किया. नीतीश ने जदयू मुख्यालय में नए बने 'कर्पूरी सभागार' के मंच से 'निश्चिय संवाद' को संबोधित किया. पार्टी ने अपनी इस डिजिटल रैली से चुनावी अभियान का बिगुल फूंक दिया है. जदयू का दावा है कि नीतीश की वर्चुअल रैली से 30 लाख लोग जुड़े हैं.

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमने jdulive.com शुरू किया है. उन्होंने कहा कि यह हमारी पार्टी का डिजिटल प्लेटफॉर्म है. इसके लिए मैं पार्टी के सभी नेताओं को धन्यवाद देता हूं.इसके बाद नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना के चलते आर्थिक संकट बढ़ता ही जा रहा है. दूसरी तरफ इस ओर बाढ़ ने काफी नुकसान किया है. 16 जिले इस बार बाढ़ से प्रभावित हुए और सरकार ने तत्काल राहत पहुंचाई और 5 लाख से ज्यादा लोगों को रेस्क्यू किया गया हैं.

नीतीश कुमार फूंकेंगे चुनाव प्रचार का बिगुल, पटना में वर्चुअल रैली का आगाज

बाढ़ का जिक्र करते हुए नीतीश कुमार ने उस दौर का भी जिक्र किया जब उन्हें सत्ता मिली थी. नीतीश कुमार ने बताया कि 2006 के बाद हमने SOP बनाया कि कब किसी परिस्थिति में क्या काम करना है. हमने आपदा राहत में लोगों को अनाज दिया तो लोगों ने क्विंटलिया बाबा का नाम दे दिया. उन्होंने लालू पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर वे पहले लोगों को अनाज दिए गए होते तो लोग क्‍यों ऐसा कहते?

इसके अलावा नीतीश कुमार ने अपने भाषण में कोरोना पर सरकार द्वारा किए गए कार्यों की चर्चा की. नीतीश ने कहा कि लॉकडाउन से लेकर अनलॉक में जो भी नियम बनाए गए उस पर काम किया जा रहा है. इसके अलावा नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए हम मार्च से ही सतर्क थे. केंद्र से पहले ही हमने बिहार में लॉकडाउन शुरू किया था. अब अनलॉक शुरू हो चुका है। हम केंद्र की गाइडलाइंस का पालन कर रहे हैं.

पटना: RJD नेता तेजस्वी ने CM नीतीश से पूछे 10 सवाल, तथ्यों समेत मांगा जवाब

इसके साथ ही सीएम ने कोरोना को लेकर सरकार की उपलब्धियां भी गिनवाई. उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों के लिए बेड, ऑक्सीजन का पर्याप्त इंतजाम है और जितनी व्यवस्था है उसका पूरा इस्तेमाल भी नहीं हो पा रहा है. सरकार ने इलाज से लेकर मौत होने की परिस्थिति में 4 लाख रुपया मुआवजा देना तय किया. राज्य भर के प्रवासी बिहारियों को 14 दिन क्ववारंटीन सेंटर में रखा. 15 लाख से ज्यादा लोग वापस बिहार आए. नीतीश ने बताया कि राज्य में हर दस लाख की जनसंख्या पर 32,233 लोगों की जांच की गई.

नीतीश कुमार यह भी कहा कि हमारी सरकार ने कब्रिस्तान की घेरेबंदी कराई. उन्होंने बताया कि 8064 कब्रिस्तान में से 6299 की घेरेबंदी करा दी गई है, जबकि दूसरी तरफ मंदिर से मूर्ति चोरी होने लगी थी. हमारी सरकार ने 226 मंदिरों में पूर्ण चारदीवारी कराई है, जबकि 112 पर काम जारी है और 48 प्रक्रियाधीन है.

पटना में पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की हम का होर्डिंग- फर्स्ट बिहार, नीतीश कुमार

इस वर्चुअल रैली में नीतीश कुमार ने विपक्ष पर भी जमकर निशाना साधा. नीतीश ने पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले हालात इतने बुरे थे कि सामूहिक नरसंहार होता था. लोग गाड़ी में राइफल दिखाते हुए चलते थे. उन्होंने विपक्ष के सवालों का जवाब देते हुए यह भी कहा कि कुछ लोग आलोचना करते रहते हैं, बोलते रहते हैं लेकिन हमने शुरुआत से ही कोरोना जांच बढ़ाने के लिए कहा था. आज बिहार में हर दिन 1.50 लाख से ज्यादा जांच हो रही है.

इसके अलावा बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी ने लोजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि एक हमारे नेता कहा करते थे कि हम वैसे घरों में दिया जलाने चलें हैं, जहां वर्षों से अंधेरा है.उन घरों में बिजली पहुंचाने का काम हमारे नेता ने ही किया है. इसके अतिरिक्त जदयू नेता ललन सिंह ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि क्या फार्मूला अपनाया, जरा बिहार की जनता को बताइए. आपके पिता जेल क्यों गए ये भी तो जरा बिहार की जनता को बताइए. अपने बारे में कुछ नहीं बताते, अपने पिता के बारे में तो बताइए. जदयू नेता विजेंद्र यादव ने कहा, 1990 में तमाम लोग सीएम पद के उम्मीदवार थे तब किसने सीएम बनवाया था. नीतीश कुमार ने जिनको मुख्यमंत्री बनवाया, वही उनके ख़िलाफ़ बोल रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें