बिहार चुनाव में शराब की तस्करी रोकने के लिए पुलिस ने जारी किए तस्करों के नाम

Smart News Team, Last updated: 16/10/2020 11:55 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव में बिहार पुलिस ने शराब तस्करी को रोकने के लिए पडोसी राज्यों के 138 तस्करो लिस्ट जारी किया है. बिहार पुलिस की इस सूचि में बिहार से सटे राज्यों उत्तर प्रदेश, झारखण्ड और पश्चिम बंगाल के तस्कर है और इन राज्यों से इन अवैध धंधेबाजों को गिरफ्तार करने का आग्रह भी किया है.
बिहार विधानसभा चुनाव में शराब तस्करी को रोकने के लिए प्रशासन ने तैयार की योजना,

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव में बिहार पुलिस ने शराब की तस्करी को रोकने के लिए बड़ी कर्यवाही की है. बिहार में शराब की तस्करी को रोकने के लिए पड़ोसी राज्यों के 138 वांटेड के राज्यों की पुलिस को अपराधियों की सूची सौंपी है. इस लिस्ट में सबसे अधिक यूपी के रहनेवाले 63 तस्कर हैं. इस सूची में बिहार से सटे राज्य पश्चिम बंगाल और झारखंड के शराब तस्करों का नाम भी शामिल हैं.

आपको बता दे कि अप्रैल 2016 में मौजूदा सरकार ने बिहार में पूर्ण शराबबंदी कर दी थी. जिसके बाद से ही बिहार में दूसरे राज्यों से तस्करी के द्वारा शराब लाई जाती रही है. शराब तस्करी के कई मामलों में बिहार से सटे राज्य के धंधेबाजों के नाम सामने आते रहे है. ऐसे ही 138 तस्करो के खिलाफ बिहार के विभिन्न थानों में दर्ज हैं. ये सभी तस्कर दूसरे राज्य में रहनेवाले हैं इसलिए बिहार पुलिस ने इनके खिलाफ अभी तक कार्रवाई नहीं कर पाई. लेकिन विधानसभा चुनाव में शराब की तस्करी को रोकने के लिए पुलिस ने झारखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल की पुलिस से इन आरोपितों को गिरफ्तार करने का अनुरोध किया है.

पटना में लिफ्ट देने के बहाने लूटने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 2 अरेस्ट, 3 बदमाश फरार

बिहार पुलिस द्वारा शराब तस्करों की जारी की गई सूची में सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश के 63 तस्करो का नाम है. उसके बाद झारखंड के 61 और पश्चिम बंगाल के 14 तस्करो का नाम शामिल हैं. बिहार पुलिस ने पड़ोसी राज्यों की पुलिस से इन सभी तस्करो की गिरफ्तारी के लिए अनुरोध किया है. माना जा रहा है कि बिहार पुलिस ने विधानसभा चुनाव में शराब की तस्करी पर लगाम लगाने के लिए यह कदम उठाया है. बिहार में बड़े पैमाने पर शराब की तस्करी पड़ोसी राज्यों से होती है. बिहार के बहुत से गिरोह भी इसमें शामिल रहे हैं. दूसरे राज्यों के बदमाशों की मदद से वह शराब की तस्करी करते रहे हैं. ऐसे में इन अवैध धंधेबाजों पर लगाम लगती है तो शराब तस्करी पर भी अंकुश लग जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें