नौकरी संवाद में बोले तेजस्वी यादव- बिहार की शिक्षा में सुधार करेंगी ये 10 लाख सरकारी नौकरियां

Smart News Team, Last updated: Tue, 27th Oct 2020, 8:01 PM IST
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले  तेजस्वी यादव ने डिजिटल नौकरी संवाद में कहा कि सरकार बनते ही पहली कैबिनेट बैठक में 10 लाख सरकारी नौकरी दी जाएंगी.
तेजस्वी यादव ने ऑनलाइन नौकरी संवाद कार्यक्रम में संबोधित किया.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले मंगलवार को राजद के तेजस्वी यादव ने डिजिटल प्लेटफाॅर्म से नौकरी संवाद कार्यक्रम किया. इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि नीति आयोग की रैंकिंग में बिहार सबसे फिसड्डी है. बिहार को सुधारने के लिए सभी पदों को भरना होगा. उन्होंने कहा कि पहली कैबिनेट बैठक में नौजवानों को 10 लाख सरकारी नौकरी दी जाएंगी.

महागठबंधन से मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने मुंगेर घटना की निंदा करते हुए शोक जताया. उन्होंने कहा कि देश में पहली बार डिजिटल प्लेटफाॅर्म से कोई नौकरी संवाद हो रहा है. उन्होंने कहा बिहार में बेरोजगारी 46.5 फीसदी है जो इस देश में सबसे अधिक है. बिहार में बेरोजगारी बड़ी समस्या है. इस वजह से लोगों को पलायन करना पड़ता है. डिग्री हैं तो नौकरी नहीं है. अस्पतालों में डाॅक्टर नहीं है, स्कूलों में शिक्षकों की कमी है, शिक्षा में जो गुणवत्ता होनी चाहिए है वो नहीं है.

बिहार चुनाव: पटना की बिक्रम विधानसभा सीट पर कौन किस पर भारी?

तेजस्वी यादव ने कहा बीए की पढ़ाई में 3 साल से ज्यादा का समय लग जाता है. हमें शिक्षा को सुधारना है तो इन पदों को भरना होगा. लाॅ एंड ऑर्डर को सही करना है तो इन सभी पदों को भरना होगा. उन्होंने कहा कि नीति आयोग में बिहार सबसे फिसड्डी है. इसका मतलब है बिहार सभी मानकों में पीछे हैं. हमने पहले भी कहा कि मुख्यमंत्री रहते पहली कैबिनेट बैठक में 10 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी दी जाएगी.

बिहार चुनाव: नीतीश जी शारीरिक-मानसिक रूप से थक चुके है- तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव ने कहा कि मुझे खुशी है कि जाति, धर्म को छोड़कर ये चुनाव असली मुद्दों पर हो रहा है. कुछ लोगों ने मुद्दे से भटकाने की कोशिश कि लेकिन जनता भटकी नहीं. उन्होंने एनडीए पर हमला करते हुए कहा कि सत्ताधारी दल के पास हिसाब देने के लिए कोई काम नहीं बचा है. नीतीश कुमार पर उन्होंने कहा कि वो शारीरिक रूप से थक चुके हैं. मैंने कभी उन पर निजी हमला नहीं किया लेकिन नेता होने के तौर पर आलोचना करना मेरा हक है. उन्होंने कहा कि मैं उनके कटु वचन को उनका आशीर्वाद मानूंगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें