तेजस्वी के उलट बोली नीतीश की JDU- समय पर होने चाहिए विधानसभा चुनाव, बताई ये वजह

Smart News Team, Last updated: Sat, 25th Jul 2020, 1:39 PM IST
  • कोरोना वायरस कहर के बीच राजद समेत अन्य विपक्षी पार्टियां जहां कोरोना काल में चुनाव को टालने के पक्ष में हैं, वहीं जदयू समय पर ही चुनाव कराने की पक्षधर है। जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता राजीव रंजन ने शनिवार को कहा कि विधानसभा चुनाव समय पर ही होना चाहिए ताकि नई सरकार विकास के लिए काम कर सके।
Nitish Kumar (File Photo)

कोरोना काल में बिहार विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड यानी जदयू का स्टैंड एकदम स्पष्ट है। कोरोना वायरस कहर के बीच राजद समेत अन्य विपक्षी पार्टियां जहां कोरोना काल में चुनाव को टालने के पक्ष में हैं, वहीं जदयू समय पर ही चुनाव कराने की पक्षधर है। जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता राजीव रंजन ने शनिवार को कहा कि विधानसभा चुनाव समय पर ही होना चाहिए ताकि नई सरकार विकास के लिए काम कर सके।

बिहार चुनाव टलवाने पर अड़े तेजस्वी, बोले- लाशों की ढेर पर चुनाव नहीं होने देंगे

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, राजीव रंजन ने कहा कि समय पर चुनाव हो, यह सुनिश्चित कराना हमारी जिम्मेदारी है। हम चुनाव पर फोकस कर रहे हैं ताकि नई सरकार विकास के लिए काम कर सके।

उन्होंने आगे कहा कि बिहार सरकार कोरोना और बाढ़ प्रबंधन पर काम कर रही है। उन्होंने विपक्ष के इस दावे को सिरे से खारिज कर दिया कि बिहार सरकार उपेक्षा कर रही है।

कोरोना वायरस से निपटने को लेकर उन्होंने कहा 'कोरोना से लड़ने के लिए, मरीजों के लिए अस्पतालों में 5,000 और बेड की व्यवस्था की गई है। साथ ही हर दिन 20,000 कोरोना वायरस के टेस्ट के टारगेट को सेट किया जा रहा है।

कोरोना पर पटना आई सेंट्रल टीम ने जो फीडबैक दिया, वह सभी बिहारवासियों को डरा देगा

गौरतलब है कि बीते दिनों मधुबनी में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करते वक्त राजद नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा था कि वह कोरोना काल में लाशों के ढेर पर चुनाव नहीं होने देंगे।

उन्होंने कहा था, 'लोग मर रहे हैं, ऐसे में कहां से वोट करने लोग जाएंगे। लोकतंत्र में लोक नहीं रहेगा तो तंत्र का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। आप चाहते हो लोग वोट करें और सीधे श्मशान जाएं। लाशों के ढेर पर हम चुनाव नहीं होने देंगे।'

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें