बिहार एक्जिट पोल 2015 में फेल, क्या 2020 चुनाव में पास होंगे सीट सर्वे

Smart News Team, Last updated: Sat, 7th Nov 2020, 1:11 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनावों 2020 के एक्जिट पोल के साथ ही चुनावी विश्लेषकों की नजर पिछले चुनावों के एक्जिट पोल्स पर भी है. क्योंकि 2015 में लगभग सभी एक्जिट पोल्स गलत साबित हुए थे. 
बिहार एक्जिट पोल 2015 में फेल, क्या 2020 चुनाव में पास होंगे सीट सर्वे

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव के अंतिम चरण के लिए शनिवार को वोटिंग की जा रही है. इसके बाद 10 नवंबर को मतगणना के बाद परिणामों की घोषणा की जाएगी. इसके बाद बिहार में एक नई सरकार का गठन होगा. चुनावों के बाद क्या परिस्थितियां बनती हैं क्या होता है इसके लिए हमें पिछले विधानसभा चुनावों के परिणामों और उसके सियासी समीकरण पर भी नजर डालना जरूरी है. 

अगर बिहार विधानसभा के 2015 के चुनावों की बात करें तो उस वक्त के राजनीतिक जोड़-तोड़ काफी अलग थे. पांच चरणों में आयोजित चुनावों में वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जेडीयू ने बिहार की राजनीति के सबसे अहम चेहरों मे से एक पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव की आरजेडी से गठबंधन किया था. इसके साथ ही इस गठबंधन में समाजवादी पार्टी, जनता दल (यूनाइटेड), राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल सेक्यूलर, इंडियन नेशनल लोकदल और समाजवादी जनता पार्टी राष्ट्रीय शामिल थे. इसे गठबंधन को महागठबंधन नाम दिया गया और इसने मुख्यमंत्री का चेहरा नीतीश कुमार को बनाया था. 

मुजफ्फरपुर विधानसभा सीट: कांग्रेस और BJP आमने-सामने, जानें चुनावी माहौल

इसके अलावा 2015  के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में एनडीए गठबंधन में लोक जनशक्ति पार्टी, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा चुनावी मैदान में थे. गौरतलब है कि इन चुनावों में महागठबंधन ने 178 सीटों पर जीत दर्ज करके सरकार बनाई थी. 

सकरा विधानसभा सीट: कांग्रेस और JDU के बीच कड़ी टक्कर, जानें समीकरण

इन चुनावों में सभी तरह के ओपीनियन पोल और एक्जिट पोल गलत साबित हो गए थे. एबीपी न्यूज ने नेलीसन के साथ मिलकर दिए ओपीनियन पोल में जहांं महागठबंधन को 121 सीटें मिलने की उम्मीद जताई थी वहीं एनडीए को 118 सीटें पर जीतता हुआ बताया था. इसके साथ ही इंडिया टुडे ने अपने ओपीनियन पोल में महागठबंधन को मात्र 106 सीटों पर जीतता हुआ दिखाया था. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें