बिहार चुनाव: तेजप्रताप का हसनपुर सीट से नामांकन, तेजस्वी बोले- मेरा भाई जीतेगा

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Oct 2020, 7:57 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को तेज प्रताप यादव ने हसनपुर सीट से नामांकन कराया. इस दौरान उनके साथ भाई और महागठबंधन से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव भी मौजूद रहे.
मंगलवार को तेज प्रताप ने हसनपुर सीट से कराया नांमाकन.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने हसनपुर सीट से नामांकन किया. इस दौरान उनके साथ उनके बड़े भाई और महागठबंधन से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव भी मौजूद रहें. नामांकन के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि उनके बड़े भाई बड़े अंतर से जीतेंगे.

 

तेज प्रताप के नामांकन में उनके साथ महागठबंधन से मुख्यमंत्री के उम्मीदवार तेजस्वी यादव भी मौजूद रहे.

तेजप्रताप यादव हसनपुर सीट पर नामांकन के लिए सोमवार को ही रासेड़ा पहुंच गए थे. तेज प्रताप पिछली बार महुआ विधानसभा सीट से जीते थे. इस बार उनकी सीट बदलकर हसनपुर कर दी गई है. जिस पर नामांकन के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि तेज प्रताप ने महुआ में विधायक के तौर पर विकास के कई काम किए हैं. वो वहां पर मेडिकल काॅलेज लाए और 900 करोड़ का रोड प्रोजेक्ट्स भी लाए. इस बार वो हसनपुर से चुनाव लड़ रहे हैं क्योंकि हसनपुर के लोग ऐसा चाहते हैं.

 

बिहार चुनाव: BJP के बाद JDU का एक्शन, NDA के खिलाफ उतरने वाले 15 नेता सस्पेंड

हसनपुर सीट से राजद के लिए नामांकन होने के बाद तेज प्रताप ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी. उसके पहले उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था कि बिहार के भावी मुख्यमंत्री भाई तेजस्वी यादव (अर्जुन) को लेकर हसनपुर विधानसभा में नामांकन के लिए पहुंच चुका हूं. कहा जा रहा है कि बुधवार को तेजस्वी यादव राघोपुर सीट से नामांकन कराएंगे.

 

बिहार चुनाव रैली CM नीतीश ने कहा-पूरा बिहार मेरा परिवार, मेरा कोई स्वार्थ नहीं

बताया जा रहा है कि इस बार महुआ में तेज प्रताप के जीतने आसार कम लग रहे थे. इस वजह से वो इस बार हसनपुर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. हसनपुर सीट राजद की मजबूत सीट बताई जा रही है. 1990 से 2005 तक कई बड़े समाजवादी नेता इस सीट से जीतते आए हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें