बिहार चुनाव: जिन सीटों पर दी थी मात वहीं अब साथ में प्रचार करेंगी पार्टियां

Smart News Team, Last updated: 15/10/2020 06:03 PM IST
  • इस बार के बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा और जदयू एक साथ लड़ रहे हैं. लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में 49 विधानसभा सीट पर बीजेपी और जदयू के उम्मीदवार एक-दूसरे के खिलाफ चुनावी मैदान में थे. 
इस बार के बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में भाजपा और जदयू एनडीए के तहत एक साथ लड़ रहे हैं.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में भाजपा और जदयू गठबंधन में एक साथ लड़ रहे हैं. लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव 2015 में बिहार की 49 विधानसभा सीट पर भाजपा और जदयू के उम्मीदवार एक-दूसरे के खिलाफ लड़े थे. 

इस 49 सीटों में 48 पर दोनों राजनीति पार्टी ही पहले और दूसरे स्थान पर रहे थे. बलरामपुर वह एक सीट थी, जहां भाजपा और जदयू दोनों को हराकर भाकपा माले के उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी. इस सीट पर भाजपा दूसरे और जदयू तीसरे नंबर पर थी. कोचाधामन सीट पर जदयू के प्रत्याशी ने जीत हासिल की थी, तो भाजपा के उम्मीदवार तीसरे नम्बर पर थे. इस सीट पर एआईएमआईएम दूसरे नम्बर पर थी.

बिहार चुनाव: दिग्गज नेता अपने बेटा-बेटी के आगे भूले राजनीतिक विचार और धारा

बिहार विधानसभा चुनाव 2015 में जदयू महागठबंधन का हिस्सा थी. इस बार के विधानसभा चुनाव में जदयू एनडीए में शामिल होकर भाजपा के साथ चुनाव लड़ रही हैं. ऐसे में इस बार के विधानसभा चुनाव में इन 49 सीटों पर एनडीए का प्रदर्शन कैसा होगा, ये देखना दिलचस्प रहेगा.

चिराग पासवान बोले- नरेंद्र मोदी की फोटो की जरूरत नीतीश को, मेरे तो गार्जियन हैं

पिछले विधानसभा चुनाव में विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी सहित जदयू के दिग्गज नेता भाजपा को चुनावी मैदान में हराकर विधानसभा में पहुंचे थे. पिछले चुनाव में ऊर्चा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव सुपौल सीट से, ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार नालंदा सीट से, परिवहन मंत्री संतोष निराला राजपुर सीट से, विज्ञान और प्रावैधिकी मंत्री जय कुमार सिंह दिनारा सीट से और आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय लौकहा सीट से भाजपा के उम्मीदवार को हराये थे. इस बार राजनीति पहले वाली नहीं रही. इस बार बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा और जदयू के उम्मीदवार एक साथ चुनाव लड़ रहे हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें