बिहार चुनाव: देश में पहली बार ट्रांसजेंडर मोनिका दास बनेंगी पीठासीन पदाधिकारी

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 08:32 AM IST
  • देश में पहली बार ट्रांसजेंडर मोनिका दास पीठासीन पदाधिकारी बनेंगी. मोनिका देश की पहली ट्रांसजेंडर बैंकर बन चुकी हैं. उन्हें जल्द ही पीठासीन पदाधिकारी के रूप में प्रशिक्षण दिया जाएगा.
बिहार चुनाव: देश में पहली बार ट्रांसजेंडर मोनिका दास बनेंगी पीठासीन पदाधिकारी

पटना. सविता.

बिहार विधानसभा चुनाव में राजधानी पटना की ट्रांसजेंडर मोनिका दास को पीठासीन पदाधिकारी बनाया जाएगा. ऐसा पहली बार है कि देश में किसी ट्रांसजेंडर को चुनाव के लिए पीठासीन पदाधिकारी बनाया जाए. मोनिका देश की पहली ट्रांसजेंडर बैंकर हैं. वो अभी केनरा बैंक में कार्यरत हैं. मोनिका दास पीठासीन पदाधिकारी के तौर पर एक बूथ की पूरी जिम्मेदारी संभालेंगी. इसमें मतदान कराने से लेकर मॉनिटरिंग तक करना होगा. 

मोनिका को पीठासीन अधिकारी के तौर पर आठ अक्टूबर को प्रशिक्षण दिया जाएगा. मोनिका से पहले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ट्रांसजेंडर रिया सरकार को पोलिंग ऑफिसर बनाया जा चुका है. रिया सरकारी स्कूल टीचर हैं. वहीं अब बिहार विधानसभा में पहली बार किसी ट्रांसजेंडर को पीठासीन पदाधिकारी बनाया जा रहा है.

हाथरस केस को लेकर मशाल जुलूस निकालना पप्पू यादव को पड़ा महंगा, 152 पर केस दर्ज

मोनिका दास पटना विश्वविद्यालय से लॉ में गोल्ड मेडलिस्ट हैं. इसके अलावा सौंदर्य प्रतियोगिता में फेस ऑफ पटना भी रह चुकी हैं. गौरतलब हो की पीठासीन पदाधिकारी को पोलिंग पार्टी के सदस्यों से परिचित होकर उनके संपर्क में रहना चाहिए. साथ ही रिटर्निंग ऑफिसर के सभी प्रासंगिक निर्देशों को तैयार रखना होगा. मतदान केंद्र के स्थान और यात्रा कार्यक्रम के बारे में सारी जानकारी होनी चाहिए. चुनाव से संबंधित सभी रिहर्सल और प्रशिक्षण वर्गों में भाग लेना चाहिए. चुनाव के सामान लेते समय सतर्क होना चाहिए. अहम है यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी मतदाताओं के साथ निष्पक्ष और सम्मान के साथ व्यवहार किया जाए.

शॉर्ट फिल्म 'आधा हम, आधा हमारा' से महिलाएं बिहार चुनाव में मांग रही 50% टिकट

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें