बिहार चुनाव: उपेंद्र कुशवाहा और ओवैसी ने बनाया ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Oct 2020, 3:13 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव के लिए रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने ओवैसी के साथ हाथ मिला लिया है. रालोसपा, ओवैसी की AIMIM और बसपा समेत 6 पार्टियों के गठबंधन को ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट का नाम दिया गया है. 
बिहार चुनाव: उपेंद्र कुशवाहा और ओवैसी ने बनाया ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्यूलर फ्रंट

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए ओवैसी और उपेंद्र कुशवाहा ने ग्रेंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट की घोषणा कर दी है. इस गठबंधन में रालोसपा, एआईएमआईएम, बसपा, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, समाजवादी जनता दल(डेमोक्रेटिक) और जनतांत्रिक पार्टी(सोशलिस्ट) शामिल होंगे. उपेंद्र कुशवाहा, ओवैसी और मायावती समेत 6 पार्टियों के इस फ्रंट की औपचारिक घोषणा गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस में की गई. 

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान असदुद्दी ओवैसी ने कहा कि हम बिहार के लोगों को नया विकल्प दे पाएं इसलिए हमरी साथ नई पार्टियां शामिल हुई हैं. नीतीश सरकार ने 15 साल बिहार की जनता को धोखा दिया है. इसी में उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी बात जोड़ते हुए कहा कि बिहार में शिक्षा का कोई मतलब नहीं बचा है सिर्फि पैसों वालों के बच्चे पढ़ पा रहे हैं. 

उपेंद्र कुशवाहा ने एनडीए और महागठबंधन पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी तो अपनी ही सहयोगी पार्टी के साथ तीसरी पार्टी के जरिए लड़ रहा है. वहीं एनडीए और महागठबंधन में आपस में ही लड़ाई जारी है. इसी के साथ रालोसपा प्रमुख ने कहा कि गठबंधन के सभी नेताओं से वादा किया गया है कि सत्ता में आने के बाद उनके क्षेत्रों की समस्याओं को दूर किया जाएगा.

RLSP उपेंद्र कुशवाहा का BSP के बाद ओवैसी से गठबंधन, शामिल होंगे AIMIM नेता

रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी पार्टी के 42 कैंडिडेट के नाम भी घोषित कर दिए हैं. ग्रेंड सेक्युलर फ्रंट में शामिल अन्य पार्टियां भी अपने प्रत्याशियों के नाम जल्द घोषित कर सकती है. 

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए पहले राष्ट्रीय लोक समता पार्टी, असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM और बसपा के बीच गठबंधन हुआ था लेकिन अब इसमें 3 नई पार्टियां जुड़ी हैं.

रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी पार्टी के 42 कैंडिडेट के नाम घोषित किए.
बिहार चुनाव 2020 रालोसपा प्रत्याशी
आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें