15 मई तक बंद रहेगा बिहार विधानसभा सचिवालय, बहुत जरूरी काम के लिए होगी छूट

Smart News Team, Last updated: 30/04/2021 06:55 PM IST
  • बिहार विधानसभा सचिवालय के कई कर्मचारियों और उनके परिजनों की कोरोना से मौत हो गई है. जिसको देखते हुए बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय सिन्हा ने 3 मई से 15 मई तक महत्पूर्ण कामों को छोड़कर सचिवालय को बंद रखने का आदेश जारी किया है.
कोरोना के चलते बिहार विधानसभा सचिवालय 3 मई से 15 मई तक बंद रहेगा.

पटना. बिहार में कोरोना बेकाबू होता जा रहा है. कोरोना के लगातार तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए बिहार विधानसभा सचिवालय 15 मई तक बंद रहेगा. बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने 3 मई से 15 मई तक बहुत जरूरी कामों को छोड़कर विधानसभा सचिवालय को बंद रखने का आदेश दिया है. इस दौरान बिहार विधानसभा कोविड नियंत्रण कक्ष चालू रहेगा.

मिली जानकारी के अनुसार, बिहार विधानसभा सचिवालय के कर्मियों और उनके परिजनों को कोरोना हो चुका है. पिछले दिनों एक माननीय सदस्य समेत सचिवालय के कई कर्मियों और परिजनों की कोरोना से मौत हो चुकी है. इसको देखते हुए बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने 15 मई तक सचिवालय को बंद रखने का फैसला किया है.

बिहार सरकार का फैसला, कोरोना से सरकारी कर्मियों की मौत पर मिलेगी फैमिली पेंशन

इस दौरान संसदीय समितियों की बैठकें स्थगित रहेंगी हालांकि बिहार विधानसभा कोविड कंट्रोल रूम पहले की तरह ही चालू रहेगा. इस दौरान सभी पदाधिकारियों और कर्मचारियों को मुख्यालय में रहने और मोबाइल को अपने साथ रखने का आदेश जारी किया गया है. इससे पहले कोरोना के चलते ही बिहार विधानसभा सचिवालय को बंद रखने का फैसला किया गया था. 

बिहार के मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह का कोरोना से निधन, CM नीतीश ने जताया शोक

आपको बता दें कि 13 अप्रैल से 16 अप्रैल तक बिहार विधानसभा सचिवालय के 44 लोग कोरोना की चपेट में आए थे. जिसके बाद विधानसभा के अध्यक्ष विजय सिन्हा ने 25 अप्रैल तक सचिवालय को बंद रखने का आदेश जारी किया गया था. बता दें कि बिहार में 15 हजार 853 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई है. जिसमें से सबसे ज्यादा राजधानी पटना में 2 हजार 844 कोरोना केस सामने आए हैं. वहीं बेगूसराय में 786, नालंदा में 881, मुजफ्फरपुर में 638, पूर्णिया में 613 और समस्तीपुर में 500 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें