बिहार सरकार का निर्देश- नेताओं के साथ सम्मान से पेश आएं राज्य के IAS IPS अफसर

Smart News Team, Last updated: 07/03/2021 08:45 AM IST
  • बिहार विधानसभा स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने नेताओं के साथ आईएएस पीसीएस व प्रशासनिक अधिकारीयों को सम्मान के साथ पेश आने का निर्देश दिया. जिसका अनुसार करते हुए संसदीय कार्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा ने राज्य के डीजीपी के साथ सभी विभागों को पत्र लिखकर इसे जारी किया.
बिहार सरकार का निर्देश- नेताओं के साथ सम्मान से पेश आए राज्य के IAS IPS अफसर

पटना. बिहार विधानसभा की तरफ से किए गए पहल का असर अब राज्य में दिखने लगा है. वही अब राज्य के आला अधिकारी जनप्रतिनिधियों के साथ अच्छे से पेश आते हुए दिखाई देने लगे है. जिसके लिए विधान सभा ने राज्य के सभी अधिकारियों को हिदायत भी दी थी. वही इस निर्देश में कहा गया है कि राज्य के आईएएस पीसीएस से लेकर प्रशासनिक सेवा के अधिकारी राज्य के सांसद, विधायक के साथ विनम्रता से पेश आए. इतना ही नहीं सार्वजनिक कार्यक्रमों में जनप्रतिनिधियों को अनिवार्य रूप से आमंत्रित भी क्या जाए. इसके साथ ही अन्य निर्देश भी दिए गए है.

विधानसभा स्पीकर विजय कुमार सिन्हा द्वारा प्रदेश के आला अधिकारियों के लिए दिशा-निर्देश जारी किया था. वही यह निर्देश बजट सत्र शुरू होने से पहले दिया गया था. जिसके बाद संसदीय कार्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा ने राज्य के डीजीपी के साथ सभी विभागों को पत्र लिखकर इसे जारी किया. जिसमें साफ तौर पर कहा गया है कि जनप्रतिनिधियों के सरकारी कार्यालयों में आने पर उनकी समस्याओं को सुन उसका समाधान करना चाहिए. इतना ही नहीं जब वह फोन पर भी बात करे तो सम्मान पूर्वक बात करते हुए उनकी बातों को सुन शिकायतों का समाधान निकाले.

पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के बाद अब बिहार में महंगी हो सकती है बिजली, सरकार के पास पहुंचा प्रस्ताव

इतना ही नही जब उन्हें किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में आमंत्रित कर तो उनके बैठने का भी इंतेजाम किया जाय. वही अगर उनसे मुलाकात करनी हो और किसी कारण समय मे परिवर्तन करना पड़े तो उसकी सूचना तुरन्त उन्हें दी जाए. वही जब जनप्रतिनिधि किसी भी चीज की जानकारी मांगे तो तो उसकी जानकारी उन्हें टर्न प्रदान की जाए और वह जिस भाषा में जानकारी चाहते हो उस भाषा मे उन्हें उसके बारे में उन्हें अनुवाद करके दे. वही अगर किसी कारण उन्हें सूचना देना सम्भव न हो तो इसका उन्हें उल्लेख में कारण को स्पष्ट रूप से बताए.

CM नीतीश कुमार ने मुकेश सहनी मामले पर कहा- उनके भाई ने जानबूझकर ऐसा नहीं किया

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें