मांझी की जीभ काटने वाले को 11 लाख देंगे BJP नेता, पार्टी बोली-मां का दूध पिया तो...

Ruchi Sharma, Last updated: Tue, 21st Dec 2021, 1:40 PM IST
  • भाजपा नेता गजेंद्र झा के द्वारा मांझी की जीभ काटने वाला बयान देने पर हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा है कि किसकी मां ने दूध पिलाया है, जो जीतन राम मांझी की जीभ काट ले.
मांझी की जीभ काटने वाले को 11 लाख देंगे BJP नेता,पार्टी बोली-मां का दूध पिया तो.

पटना. ब्राह्मणों के लिए अपशब्द कहने के मामले को लेकर भले ही पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने माफी मांग ली हो मगर यह मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा है. हिंदू धर्म व ब्राह्मणों पर जीतन राम मांझी के विवादित बयान का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. सोमवार को जीतन राम मांझी के खिलाफ बिहार के कोर्ट और थानों में शिकायत दर्ज की गई. उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग उठाई गई. इसी मामले में बिहार बीजेपी के नेता गजेंद्र झा ने विवादित बयान दिया. उन्होंने मांझी पर हमला करते हुए कह दिया कि जो भी ब्राह्मण का बेटा मांझी की जुबान काटकर लाएगा, उसे वह 11 लाख रुपये दिया जाएगा. अब इस बयान पर हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. 

पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा है कि किसकी मां ने दूध पिलाया है, जो जीतन राम मांझी की जीभ काट लें. भाजपा नेतृत्व अपने नेताओं को संभाले, नहीं तो परिणाम बुरे होंगे. वहीं मामले को लेकर राज्यसभा सदस्य विवेक ठाकुर ने कहा कि मांझी की टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण है. समाचार में रहने व सस्ती लोकप्रियता के लिए उनकी यह ओछी राजनीति है. उन्होंने सरकार से आग्रह किया वे मांझी को भारतीय संस्कृति व ङ्क्षहदू धर्म के अध्ययन का शार्ट टर्म कोर्स कराए. उन्हें रामायण सर्किट का दौरा भी कराया जाना चाहिए . ठाकुर ने कहा मांझी अमर्यादित टिप्पणी पर माफी मांग बड़प्पन दिखाएं.

पूर्व CM जीतनराम मांझी के विवादित बयान पर ब्राह्मण समाज ने फूंका पुतला

भाजपा प्रवक्ता मनोज शर्मा ने कहा कि भगवान राम एक संस्कार, संस्कृति, प्रेरणा और मर्यादा हैं. जिन लोगों को राम के नाम पर संदेह हैं वैसे लोग पहले अपने नाम से राम का परित्याग करें. उन्होंने आगे कहा कि 'मांझी बिहार के मुख्यमंत्री रहे लेकिन उनकी भाषा, व्यक्तित्व और संस्कार उस पद लायक नहीं थे. खुद को पढ़ा-लिखा बताने वाले मांझी ने रामायण का अध्ययन भी ठीक से नहीं किया होगा'.

बिहार: मांझी ने ब्राह्मणों पर दिया विवादित बयान, कहा- पंडित खाएंगे नहीं पैसा दो

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें