संजय जायसवाल का तेजस्वी पर तंज- BPSC रिजल्ट देख नौवीं पास नेता जी के पेट में दर्द

Smart News Team, Last updated: Wed, 9th Jun 2021, 5:29 PM IST
  • बिहार भाजपा के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने बुधवार को फेसबुक पोस्ट के जरिए राजद नेता तेजस्वी यादव को जमकर घेरा. संजय जायसवाल ने कहा कि बीपीएससी का रिजल्ट देख हमारे 9वीं पास नेता जी के पेट में दर्द हो रहा है.
बिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने फेसबुक पोस्ट के जरिए तेजस्वी यादव को जमकर घेरा.

पटना. बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने राजद नेता तेजस्वी यादव पर तंज कसते हुए कहा कि बीपीएससी का रिजल्ट देख नौवीं पास नेता जी के पेट में जबरदस्त दर्द हो रहा है. संयज जायसवाल ने बुधवार को फेसबुक पोस्ट में कहा कि इनके पिताजी ने चरवाहा विद्यालय बनवाया था और जीवन भर पिछड़ों को लाठी में तेल पिलाने की राजनीति समझाते रहे.

इससे पहले राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए कहा कि नागपुरी संतरे के रंग में रंगे कथित ओबीसी मुख्यमंत्री नीतीश जी ने बीपीएससी के परिणाम में आरक्षित और अनारक्षित वर्ग का कट ऑफ मार्क्स बराबर करा दिया है क्योंकि नीतीश जी ने 15 सालों में अपनी जाति की प्रति व्यक्ति आय बिहार में सबसे ज्यादा कराने के बाद बाकी पिछड़ी जातियों को लात मार दिया है.

संजय जायसवाल ने की नीतीश सरकार की तारीफ, कोविड पर लिए फैसलों को सराहा

बिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने बुधवार को फेसबुक पोस्ट में कहा कि बीपीएससी का रिजल्ट देख हमारे नौवीं पास नेता जी के पेट में जबरदस्त दर्द हो रहा है. उनका दुख ये है कि पिछड़ों का कट ऑफ मार्क्स सामान्य वर्ग के बराबर कैसे हो गया? बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि वो कह रहे हैं कि फिर रिजर्वेशन से क्या फायदा? 9वीं पास नेता बहुत खुश होते अगर सामान्य वर्ग के 535 के बदले पिछड़े वर्ग का 250 पर सेलेक्शन होता.

संयज जायसवाल ने कहा कि आज जब अपनी मेहनत से गरीब-पिछड़ों के बेटे, सामान्य वर्ग के बराबर पहुंच गए हैं तो इनको अपना राजनीतिक भविष्य खत्म होता दिख रहा है. उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति के बच्चो भी 490 अंक पर चयनित होकर अन्य वर्गों के पास पहुंच चुके हैं. बाबा साहेब आंबेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि तभी होगी, जब अनारक्षित वर्ग के बच्चे बराबर कट ऑफ मार्क्स लाएंगे.

बिहार-UP से दिल्ली-मुंबई के लिए बुधवार से ये 14 ट्रेनें शुरू, पढ़ें लिस्ट-टाइम टेबल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें