लालू के बयान पर भिड़ा पक्ष-विपक्ष, BJP ने बताया घटिया मानसिकता वाले तो जवाब में RJD बोली जाहिल

Smart News Team, Last updated: Fri, 13th Aug 2021, 8:22 AM IST
  • लालू यादव ने कहा था कि अगर बिहार में जातीय जनगणना नहीं होती है तो पिछड़ा और एससी-एसटी इसका बहिष्कार कर सकते हैं. जिसके जवाब में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने आरजेडी नेता लालू यादव को घटिया मानसिकता का शिकार बताया है, तो पलटवार करते हुए राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने उनको जाहिल करार दिया है.
बिहार के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल.( फाइल फोटो )

पटना: बिहार में जातीय जनगणना कराने का मुद्दा अब भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल के बीच वार-पलटवार का मुद्दा बन गया है. इसका सर्मथन और विरोध करने वाले नेता अब मर्यादाओं को लांघकर बयानबाजी करने लगे है. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को घटिया मानसिकता का शिकार बताया है, तो वही इसके जवाब में राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा है कि भाजपा नेता मानसिक रुप से विकलांग हो चुके है.

गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों ने भाजपा नेताओं से सवाल किये, सम्मेलन में एक पत्रकार ने पूछा कि लालू यादव ने कहा है, कि अगर जातीय जनगणना नहीं होती है तो पिछड़ा वर्ग और एससी-एसटी इसका बहिष्कार कर सकते है. इसके जवाब में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि लालू यादव घटिया मानसिकता के शिकार हो रहे है, इसके अलावा गन्ना उद्योग मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि लालू प्रसाद केवल प्रोपगेंडा पैदा करते है. उन्होंने कहा, कि लालू यादव सस्ती लोकप्रियता के लिए कुछ भी बोल देते है. वहीं सहकारिता मंत्री सुबाष सिंह ने कहा, कि 15 वर्षो तक सत्ता में रहने वाले राजद को जाति जनगणना की याद क्यों नहीं आई.

सालों से बंद SC/ST स्कॉलरशिप देंगे CM नीतीश कुमार, फिर शुरू करने को दिया 1 महीना

भाजपा नेताओं की टिप्पणी पर पलवार करते हुए आरजेडी प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा, कि लालू प्रसाद यादव जैसे सम्मानीय और जनप्रिय नेता के बारे में ऐसी टिप्पणी कोई मानसिक रुप से विकलांग, सिरफिरा और जाहिल ही कर सकता है. संजय जायसवाल उस दिन को भूल गए हैं जब 2005 में में वे लालू जी शरण में गये थे और लालू जी ने राजद से उन्हें बेतिया से विधानसभा टिकट दिया था और उसके बाद वह विधानसभा पहुंचे थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें