कोरोना काल में बदल गए बिहार बोर्ड की परीक्षा देने के नियम, ये हैं नए रूल्स

Komal Sultaniya, Last updated: Sun, 30th Jan 2022, 5:55 PM IST
  • 1 फरवरी से शुरू हो रही 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के लिए बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) ने कोरोना संक्रमण के चलते नियमों में बदलाव किया है. नई गाइडलाइन के अनुसार स्कूलों के पास कक्षाएं कम पड़ रही हैं. ऐसे में बरामदे और लाइब्रेरी में भी परीक्षार्थियों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है.
कोरोना काल में बदल गए बिहार बोर्ड की परीक्षा देने के नियम, ये हैं नए रूल्स

पटना: बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) ने कोरोना के चलते बोर्ड परीक्षाओं के नियमों में बदलाव किया है. नए नियमों के मुताबिक एग्जाम हॉल में एक बेंच पर अधिकतम दो छात्र ही बैठकर परीक्षा दे सकेंगे. ऐसे में स्कूलों के पास कक्षाएं कम पड़ रही हैं. इसके चलते बरामदे और लाइब्रेरी में भी परीक्षार्थियों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है. बिहार बोर्ड इंटर परीक्षा के लिए राज्यभर में 1471 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. इनमें 988 केंद्र ऐसे हैं जहां कुल परीक्षार्थियों की अपेक्षा कक्षाएं कम पड़ेंगी.  ऐसे में इन केंद्रों पर बरामदे, प्रयोगशाला और लाइब्रेरी में भी परीक्षा लेने की तैयारी केंद्राधीक्षकों द्वारा की जा रही है.

कोरोना गाइडलाइन के अनुसार एक बेंच पर सिर्फ दो छात्रों को बैठाना है. उस बेंच के पीछे वाले बेंच पर सिर्फ एक छात्र बैठेगा. यह क्रम पूरे कक्षा में लागू होगा. ऐसे में जहां एक कक्षा में 50 से 60 परीक्षार्थियों को बैठाया जाता था, वहीं इस बार 20 से 25 परीक्षार्थी ही बैठ पायेंगे. बता दें कि, कई स्कूल द्वारा तो परिसर में पंडाल भी लगाने पर विचार किया जा रहा है. इसके अलावा प्रयोगशाला और लाइब्रेरी में भी परीक्षार्थियों को बैठाकर परीक्षा लेने की तैयारी कई स्कूल कर रहे हैं.

बिहार बोर्ड इंटर परीक्षा: सेंटर पर छात्र पहनकर जा सकेंगे जूता-मोजा, जानें गाइडलाइंस

हर केंद्र पर सर्दी-जुकाम से पीड़ित छात्रों के लिए अलग कक्षा होगा. इस कक्षा में वह परीक्षार्थी बैठकर परीक्षा देंगे जिनका टेंपरेचर सामान्य से अधिक होगा और वह सर्दी-जुकाम से पीड़ित होंगे. इसके अलावा सभी कक्षाओं के बाहर हैंड सेनेटाइजर भी रखा जायेगा. वहीं, हर छात्र को मास्क या फेस कवर पहन कर ही परीक्षा देना है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें