बिहार बोर्ड मैट्रिक एग्जाम की दोनों टॉपर गर्ल्स बनना चाहती हैं डॉक्टर

Smart News Team, Last updated: Mon, 5th Apr 2021, 10:51 PM IST
बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा में पूजा कुमारी और शुभदर्शिनी ने पहला स्थान हासिल किया है. दोनों छात्राओं ने संयुक्त रूप से 500 में से 484 अंक हासिल किए हैं. दोनों टॉपर छात्राएं डॉक्टर बनना चाहती हैं.
बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा की टॉपर छात्राओं ने डॉक्टर बनने की इच्छा जताई है.

पटना. सोमवार को जारी हुए बिहार बोर्ड के मैट्रिक के रिजल्ट में सिमुलतला आवासीय विद्यालय की पूजा कुमारी और शुभदर्शिनी ने संयुक्त रुप से पहली रैंक हासिल की है. दोनों छात्राओं ने डॉक्टर बनने की इच्छा जताई है. दोनों ने 500 में से 484 अंक हासिल करके पहला स्थान प्राप्त किया है.

जानकारी के अनुसार पूजा कुमारी के पिता प्रभु शरण ठाकुर एक सरकारी स्कूली शिक्षक हैं, जबकि उनकी माँ अनीता देवी एक गृहिणी हैं। अपने भविष्य के लक्ष्य के बारे में बात करते हुए पूजा कुमारी ने बताया कि वह एक डॉक्टर बनना चाहती है. अपने डॉक्टर बनने की प्रेरणा को लेकर पूछे गए सवाल पर पूजा ने कहा कि कोरोना महामारी ने स्वास्थ्य कर्मचारियों की आवश्यकता पर बल दिया है. डॉक्टर दूसरों को बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं. उसने मुझे डॉक्टर बनने के लिए प्रेरित किया.  पूजा ने अपनी अध्ययन रणनीति के बारे में बताया कि उसने ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लिया. उसके पिता ने बोर्ड परीक्षा की तैयारी में उसकी मदद की. उसने रोजाना छह घंटे से अधिक का पढ़ाई की. पूजा ने यह भी कहा कि उसने एक या दो विषय पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय सभी विषयों पर समान रूप से ध्यान दिया. 

बिहार बोर्ड मैट्रिक 2021 टॉपर्सः पूजा समेत 3 स्टूडेंट टॉपर, टॉप-10 में 101 छात्र

मैट्रिक बोर्ड एग्जाम में पूजा के साथ पहला स्थान प्राप्त करने वाली सुभद्राशिनी भी डॉक्टर बनना चाहती है. शुभदर्शिनी का कहना है कि वह एक डॉक्टर बनना चाहती है क्योंकि उसे जीव विज्ञान सबसे ज्यादा पसंद है. उसका बड़ा भाई पहले से ही इंजीनियरिंग कर रहा है, इसलिए उसने एक और पेशा चुनने का फैसला किया. उनके पिता ओम निराला भी एक सरकारी स्कूल शिक्षक हैं, जबकि उनकी मां नीलम कुमारी एक गृहिणी हैं। बेटी की सफलता से उत्साहित ओम निराला ने कहा, “मुझे पूरा यकीन था कि मेरी बेटी अच्छे अंक हासिल करेगी. मैंने उसे लॉकडाउन अवधि के दौरान कड़ी मेहनत करते देखा है." सुभद्राशिनी ने अपनी पढ़ाई की योजना के बारे में बताया कि उसने पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र हल किए और परीक्षा से पहले लिखने का खूब अभ्यास किया. मैंने शिक्षकों से विषयवार अपने डाउट पूछे. SAV के प्रिंसिपल राजीव रंजन ने सभी छात्रों को परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए बधाई दी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें