लालू यादव का लौटा सियासी रंग, बिहार उपचुनाव के लिए तारापुर और कुशेश्वरस्थान में आज करेंगे सभा

Prachi Tandon, Last updated: Wed, 27th Oct 2021, 9:36 AM IST
  • राजद सुप्रीमो लालू यादव लंबे समय के बाद सियासी मैदान में लौट आए हैं. बिहार उपचुनाव के लिए लालू यादव आज तारापुर और कुशेश्वरस्थान प्रचार के लिए जाएंगे.
लालू यादव 27 अक्टूबर को तारापुर और कुशेश्वरस्थान में करेंगे चुनाव प्रचार.(फाइल फोटो)

पटना. राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू यादव करीब तीन साल बाद बिहार की राजनीति में लौट आए हैं. बिहार उपचुनाव को लेकर भी लालू यादव पूरी तरह से तैयार दिख रहे हैं. 30 अक्टूबर को होने वाले मतदान के लिए आज राजद लालू यादव को लेकर तारापुर और कुशेश्वरस्थान के चुनावी रण में उतरेगी. लालू यादव दोनों विधानसभा सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए आज चुनावी सभा करेंगे. आरजेडी के चीफ लालू यादव दोनों जगहों पर हेलिकॉप्टर से आना-जाना करेंगे. उनकी सेहत को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है.

बिहार विधानसभा उपचुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी ताकत झोंक दी है. कुशेश्वरस्थान और तारापुर में जीत के लिए राजद भी हर कोशिश कर रहा है. लालू यादव के बिहार की राजनीति में उतरने से सियासी दंगल मच गया है. कांग्रेस, जदयू और भाजपा में भी सियासत गरमा गई है. कांग्रेस ने भी आरजेडी पर निशाना साधा है. कांग्रेस ने कहा कि लालू चुनावी मैदान में उतरे तो जनता उनसे सवाल करेगी. वहीं भाजपा ने भी निशाना साधते हुए कहा कि लालू के प्रचार का इस बार भी कोई असर नहीं पड़ने वाला है. वहीं लालू यादव के आने के बाद से राजद के कार्यकर्ताओं में जोश भर गया है. 

RJD सुप्रीमो लालू यादव सियासी मिजाज में लौटे, बढ़ती महंगाई को लेकर NDA सरकार पर साधा निशाना

आरजेडी चीफ लालू यादव ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था कि अस्वस्थ और जेल में होने के कारण वह दो चुनाव मिस कर चुके हैं लेकिन अब बिहार चुनाव हो रहे हैं तो जनता के प्यार ने उन्हें वापस बुला लिया है. लालू यादव ने मीडिया से बात करते हुए एनडीए सरकार पर बढ़ती महंगाई को लेकर निशाना साधा था. लालू यादव ने कहा कि 'नीतीश कुमार का गुणगान किया जा रहा है. बीजेपी और पीएम मोदी सभी को पता है. हर कोई नारा लगा है कि नीतीश कुमार जैसा प्रधानमंत्री होना चाहिए. नीतीश कुमार को पीएम मटैरियल बताया जा रहा है. ये अहंकार और लालच है.' 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें