Ease of Living Index 2020: जानिए बिहार के पटना और मुजफ्फरपुर को मिला कौन सा स्थान

Smart News Team, Last updated: 05/03/2021 03:24 PM IST
  • 10 लाख से अधिक जनसख्या वाले शहर की सूची में पटना को 53.26 अंकों के साथ 33वें स्थान मिला है, तो वहीं 10 लाख से कम आवादी वाले शहरों की सूची में मुजफ्फरपुर को 45.53 अंकों के साथ सबसे आखरी स्थान रखा है.
ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स में बिहार के पटना और मुजफ्फरपुर का स्थान. ( सांकेतिक फोटो )

पटना: केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय ने शहरों में जीवन की गुणवत्ता के आधार पर गुरुवार को ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स 2020 की रैकिंग जारी है. इस रैंकिंग में बिहार के पटना को 10 लाख से अधिक आवादी वाली सूची में शामिल किया गया है, तो वहीं मुजफ्फरपुर को 10 लाख से कम जनसख्या वाली सूची में रखा गया है. 10 लाख से अधिक जनसख्या वाले रहने लायक शहरों की सूची मे पटना 53.26 अंकों के साथ 33वें स्थान पर पहुंच गया है.

बिहार के अन्य शहरों की बात की जाए, तो मुजफ्फरपुर को 10 लाख से कम जनसख्या वाले शहरों की सूची में आखरी स्थान पर रखा गया है. इसके अलावा बिहारशरीफ 52.42 अंकों के साथ 28वें स्थान पर और भागलपुर 52.19 अंकों के साथ 30वें स्थान पहुंच गया है. 10 लाख से अधिक आबादी वाले 49 शहरों की सूची में बेगलूरु 66.7 अंकों के साथ पहले स्थान पर जबकि श्रीनगर 42.95 अंकों के साथ आखरी स्थान पर रहा.

सरकारी कार्यक्रम में भाई को भेजने से मंत्री मुकेश सहनी पर बिहार विधानसभा में बवाल

क्या है ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स

ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स के जरिए केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय ने शहरी जीवन की गुणवत्ता और विकास के लिए विभिन्न पहलों का आकलन किया गया. जिसमें शहरों में जीवन की गुणवत्ता, शहर की आर्थिक क्षमता, स्थिरता और रहने लायक शहरों का पता लगाना था. इसमें सर्व रिपोर्ट में सिटीजन पर्सेप्शन सर्वे (सीपीएस) के माध्यम से नगरों के जीवन और उनकी शैली का होने वाली सुविधा या कठनाईयों का पता लगाना था.

पटना: शव यात्रा में हो रही फायरिंग में गोली लगने से आठ साल के बच्चे की मौत

बिहार कर्मचारी चयन आयोग ने इंटर स्तरीय संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा 2014 की ओएमआर को किया रद्द, जानिए कारण

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें