बिहार विधानसभा शताब्दी समारोह में बोले CM नीतीश- मिलजुल कर बिहार का विकास करें

Smart News Team, Last updated: 07/02/2021 06:12 PM IST
  • बिहार विधानसभा के शताब्दी वर्ष समारोह का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि सरकार का मतलब सिर्फ रूलिंग पार्टी नहीं है बल्कि सभी सदस्य सरकार हैं. हम सब मिलजुल कर बिहार का विकास करें.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा शताब्दी समारोह का उद्घाटन किया. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को बिहार विधानसभा शताब्दी वर्ष समारोह का उद्घाटन किया. समारोह में सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि सरकार का मतलब सिर्फ रूलिंग पाटी ही नहीं है बल्कि सदन के सभी सदस्य सरकार हैं. उन्होंने कहा कि हम सब मिलजुल कर बिहार का विकास करें ताकि देश के विकास में योगदान हो सके. आपको बता दें कि बिहार विधानसभा शताब्दी वर्ष पूरे साल चलेगा.

बिहार विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विपक्ष को आश्वस्त करते हुए कहा कि आपके उचित सुझावों को जरूर स्वीकारेंगे. बिहार विधानसभा भवन शताब्दी वर्ष का कार्यक्रम विधानसभा के सेंट्रल हॉल में हुआ. जिसमें सभी दल के विधायक शामिल हुए. इससे पहले बिहार विधानसभा के विजय सिन्हा ने बताया कि अप्रैल, मई में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शामिल होंगे.

बिहार विधानसभा को सौ साल पूरे, CM नीतीश कुमार ने किया शताब्दी समारोह कार्यक्रम का उद्घाटन

बिहार विधानसभा अध्यक्ष ने पहले  पूरा कार्यक्रम जारी कर दिया था. जिसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव, दोनों डिप्टी सीएम रेणु देवी और तारकिशोर प्रसाद का संबोधन था. वहीं सरकार में मंत्री विजय चौधरी, बीजेपी से राज्यसभा सांसद सुशील मोदी और केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को विशेषज्ञ वक्ता के तौर पर कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया था. बिहार विधानसभा शताब्दी वर्ष के समारोह की पूरी देख रेख खुद स्पीकर ने की है.

PM किसान योजना में केंद्र सरकार ने किया है ये बदलाव, आवेदन से पहले जानें नियम

बिहार विधानसभा भवन ने रविवार को अपने सौ साल पूरे कर लिए हैं. 100 साल पहले 7 फरवरी 1921 को बिहार विधानसभा की पहली बैठक हुई थी. जिसे लार्ड सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा ने गर्वनर के रूप में संबोधित और उद्घाटन किया था. पहले बिहार बंगाल का हिस्सा था. 22 मार्च 1912 को बिहार बंगाल से अलग होकर अलग राज्य बना लेकिन विधानसभा भवन 1921 में जाकर मिला था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें