नीतीश सरकार का बड़ा फैसला, फैक्ट्री में काम करने वाले सभी कामगारों को मिलेगा पहचान पत्र

Somya Sri, Last updated: Mon, 3rd Jan 2022, 9:30 AM IST
  • अब बिहार में फैक्ट्री में काम करने वाले सभी कामगारों फैक्टरी संचालकों की ओर से पहचान पत्र देना अनिवार्य होगा. फैक्ट्री में कौम करने के दौरान कृत्रिम या प्राकृतिक हादसा होने पर उनकी पहचान आसानी से हो सके इसलिए फैसला लिया गया है.
सीएम नीतीश कुमार (फोटो- Nitish Kumar Twitter)

पटना: मुजफ्फरपुर फैक्ट्री हादसे के बाद बिहार की नीतीश सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए फैक्टरी में काम करने वाले सभी कामगारों को पहचान पत्र देने का फैसला लिया है. अब कंपनी में सभी कामगारों का अलग से विवरणी भी होगा. वहीं इससे कृत्रिम या प्राकृतिक हादसा होने पर उनकी पहचान आसानी से हो सके इसलिए फैसला लिया गया है. इसके साथ ही कामगारों की पूरी जानकारी फैक्ट्री संचालकों को सरकार को साझा करनी होगी.

मालूम हो कि मुजफ्फरपुर नूडल्स फैक्टरी में हादसे के बाद कामगारों की पहचान में काफी परेशानी हुई थी क्योंकि फैक्ट्री संचालकों के पास भी कामगारों का पूरा विवरण मौजूद नहीं था. इसे देखते हुए श्रम संसाधन विभाग ने तय किया है कि अब हर फैक्टरी में काम करने वाले कामगारों को पहचान पत्र देना अनिवार्य होगा. जिसमें फैक्टरी का पंजीकरण संख्या और नाम लिखा होगा. साथ ही कर्मचारी का नाम, पिता का नाम, पता, रोजगार की प्रकृति भी लिखी रहेगी. वहीं वे कामगार जो उठेगा पर काम करते हैं उन्हें भी पहचान पत्र देना अनिवार्य होगा. साथ ही सभी कामगारों के पहचान पत्र पर फैक्टरी संचालकों का हस्ताक्षर रहेगा.

बिहार: फोकानिया और मौलवी की परीक्षा 3 जनवरी से, 94 हजार परीक्षार्थी होंगे शामिल

बता दें कि जब सार्वजनिक नोटिस सरकार की ओर से निकाली जाएगी तब सभी फैक्ट्री संचालकों को यह बताना होगा कि उनके फैक्टरी में कितने कामगार काम कर रहे हैं. इसके साथ ही उन्हें कामगारों के बकाया वेतन भुगतान की तारीख भी हिंदी या अंग्रेजी में लिखना होगा. वही फैक्टरी संचालकों को एक पूरी रजिस्टर तैयार करनी होगी जिसमें उनके फैक्टरी में काम करने वाले सभी कामगारों की पूरी विवरण लिखी होगी. इस रजिस्टर की एक प्रति फैक्टरी इंस्पेक्टरों के पास रहना अनिवार्य है. वहीं जब राज्य सरकार की ओर से सार्वजनिक नोटिस निकाली जाएगी तब फैक्ट्री संचालकों को यह बताना होगा कि उनके यहां कितने कामगर नियमित काम कर रहे हैं और कितने ठेके पर है. इसके साथ ही उन्हें सभी का नाम, पता काम करने की अवधि, वेतन अवधि, वेतन भुगतान की तारीख सहित पिछले 5 वर्षो में हुए दुर्घटना और खतरनाक घटना का भी विवरण देना होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें