नीतीश सरकार का फैसला, अब 75 प्रतिशत हाजिरी के बिना छात्रों को मिलेगी साइकिल व ड्रेस

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 23rd Sep 2021, 9:07 AM IST
  • बिहार की नीतीश सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. अब प्रदेश में 1 से 12वीं तक के छात्रों को बिना 75 प्रतिशत हाजिरी के ही साइकिल और ड्रेस के लिए पैसा मिलेगा. कोरोना के कारण बंद हुए स्कूलों की वजह से नीतीश सरकार ने यह फैसला लिया है और योजनाओं के लिए 75 प्रतिशत की हाजिरी की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है.
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, फोटो क्रेडिट (बिहार सीएमओ ट्विटर)

पटना. बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश के स्कूल के बच्चों को काफी राहत दी है. नीतीश सरकार ने प्रदेश के छात्रों के लिए दिए जाने वाली साइकिल और ड्रेस के लिए 75 प्रतिशत की हाजिरी की अनिवार्यता को खत्म कर दिया. मतलब अब बिहार के स्कूल के छात्रों को बिना 75 प्रतिशत हाजिरी के ही साइकिल और ड्रेस का पैसा मिलेगा. नीतीश सरकार के इस फैसले से छात्रों का काफी राहत मिली है. सीएम नीतीश की अध्‍यक्षता में कैबिनेट की बैठक में स्कूली बच्चों को योजनाओं की राशि देने के प्रावधान में बड़ी राहत दी गई है. कोरोना संक्रमण के कारण स्कूल बंद रहे थे इसिलए बिहार सरकार ने 2021- 2022 के लिए 75 प्रतिशत हाजिरी की अनिवार्यता को खत्म किया है. अब सरकार के फैसले के बाद बच्चों के खाते में पैसा आना शुरू हो जाएगा.

इस फैसले के बाद कैबिनेट सचिवालय के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने कहा कि उन छात्रों को ही सरकारी योजनाओं के लिए पैसा मिलता था जिन बच्चों की हाजिरी अप्रैल से सितंबर तक 75 प्रतिशत रहती थी. सीएम नीतीश की अध्यक्षा में हुई इस कैबिनेट बैठक में 21 फैसलों पर मुहर लगी है. जिसमें स्‍कूलों में 8386 शारीरिक शिक्षकों की बहाली का भी फैसला लिया गया है.

मांझी के राम को लेकर दिए बयान से बिहार में चढ़ा सियासी पारा, पक्ष-विपक्ष दोनों हमलावर

इसके साथ ही इस बैठक में अगले साल 2022 के लिए सरकारी अवकाशों को मंजूरी मिली है. जिसमें बिहार के सरकारी कर्मचारी साल 2022 में 39 सरकारी अवकाशों का आनंद ले सकेंगे. जिसमें कार्यपालक आदेश के तहत 15 छुट्टियां मिलेंगी जिसमें तीन रविवार हैं. इसके साथ ही एनआई एक्ट के तहत 21 छुट्टियां हैं जिसमें 6 रविवार हैं. इसके साथ ही 20 दिन के लिए प्रतिबंधित-एच्छिक अवकाश मिलेगा, इसे सरकारी कर्मचारी तीन दिन के लिए उपयोग में ले सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें