बिजली संकट के बीच बिहार को जगमग रखेंगे CM नीतीश, ये है प्लान

Ankul Kaushik, Last updated: Wed, 13th Oct 2021, 8:52 PM IST
  • देश में चल रहे बिजली संकट को देखते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस संकट से निबटने के लिए नया प्लान तैयार किया है. सीएम नीतीश के इस प्लान के अनुसार कंपनियों ने रोटेशन प्लान पर अमल शुरू कर दिया और इससे बिहार में बिजली आपूर्ति की कमी नहीं होगी. सीएम नीतीश के इस प्लान से बिहार को जगमग रखेंगे.
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, फोटो क्रेडिट (सीएमओ बिहार ट्विटर)

पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिजली संकट को देखते हुए प्रदेश को जगमग रखने के लिए नया प्लान तैयार किया है. इस प्लान के अनुसार अब कंपनियों ने रोटेशन प्लान पर अमल शुरू करते हुए प्राथमिकता के आधार पर बिजली आपूर्ति देने सुनिश्चित किया है. इसके साथ ही सीएम नीतीश के प्लान के अनुसार शहर के साथ ही ग्रामीण इलाकों में भी कम से कम 15 घंटे बिजली आपूर्ति देने के लिए कहा गया है. कंपनी अधिकारियों की मानें तो रोटेशन प्लान पहले से ही तय है और इसके लिए सबसे पहले औद्योगिक प्रक्षेत्र को बिजली दी जाएगी जिससे औद्योगिक उत्पादन चलता रहे. इसके बाद राजधानी पटना सहित प्रमुख शहरों में भी बिजली दी जाएगी और रोटेशन के आधार पर ही ग्रामीण इलाकों में बिजली की आपूर्ति होगी.

हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मौजूदा बिजली संकट के बीच लोगों को आश्वासन दिया है कि देश में पैदा हो रहे संकट का असर बिहार पर नहीं पड़ेगा. सीएम नीतीश ने कहा है कि बिहार सरकार बिजली संकट से निपटने के लिए पर्याप्त कदम उठा रही है. बिहार सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक बिहार को 6,500 मेगावाट बिजली की जरूरत थी, लेकिन राज्य सरकार सिर्फ 4,700 मेगावाट बिजली ही ले पाई है. केंद्र सरकार का योगदान 3,200 मेगावाट है और राज्य सरकार शेष 1,500 मेगावाट 20 रुपये प्रति यूनिट के भाव से खरीद रही है.

कोयले की कमी से यूपी में बिजली संकट, आपूर्ति को 10 करोड़ की अतिरिक्त बिजली खरीदी

बिहार विद्युत बोर्ड की जानकारी के अनुसार कोयले का स्टॉक कम है. बीएसईबी के एक अधिकारी ने कहा कि कोयले की कमी के कारण 4-8 घंटे बिजली बिहार के ग्रामीण इलाकों की गायब हुई थी. वहीं बिहार के बांका, भोजपुर, औरंगाबाद, बक्सर, सारण, गोपालगंज, जहानाबाद, गया और अरवल जैसे जिलों को 20 से 30 फीसदी कम बिजली मिल रही है. केंद्र द्वारा बिजली आपूर्ति में 20 फीसदी से ज्यादा की कटौती के बाद बिहार के कई जिलों ऐसी स्थिति पैदा हो गई है. वहीं उत्तरी बिहार में पर्याप्त बिजली की आपूर्ति नहीं हो रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें