बिहार में किसान ‘तरकारी एप’ के जरिये बेचेंगे सब्जी, मंडी जाने से मिलेगी निजात

Smart News Team, Last updated: Sat, 21st Aug 2021, 8:25 AM IST
बिहार में सहकारिता विभाग किसानों तरकारी एप की शुरुआत करने जा रहा है. इस एप के जरिये किसान अपनी सब्जियों को ऑनलाइन बेच सकते हैं. किसान को अपनी सब्जी की मात्र और मूल्य दोनों तरकारी एप पर डालने होंगे. इससे किसानों को अब मंदी जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी.
बिहार सहकारिता विभाग किसानों के लिए तरकारी एप शुरू करने जा रहा है. (फाइल फोटो)

पटना. बिहार सहकारिता विभाग किसानों को डिजिटल करने जा रहा है. बिहार में किसान अपनी सब्जी डिजिटल माध्यम से बेच सकेगा. सहकारिता विभाग ऑनलाइन सब्जी बेचने के लिए 'तरकारी एप' शुरू करने जा रहा है. जिस पर किसान अपनी सब्जी की मात्रा और मूल्य डालेगा. जिसके बाद सब्जी समिति सीधे खेत से सब्जी खरीदेगी. इससे किसानों को मंडी जाने से निजात भी मिलेगी. इतना ही नहीं इस एप को इस तरह से विकसित किया जायेगा की किसान और समिति ऑनलाइन मोल-भाव भी कर सकेंगे. बिहार सहकारिता विभाग जल्द ही तरकारी एप को विकसीत कर्र शुरू करने जा रहा है.

बिहार सहकारिता विभाग द्वारा बनाये जा रहे तरकारी एप के बाद किसानों को बाजार आने की जरूरत नहीं पड़ेगी. तरकारी एप के माध्यम से अब सब्जी समिति को अवगत करा दिया जायेगा की किस दिन कितनी सब्जी उपलब्ध रहेगी. लेकिन विभाग द्वारा कई शर्तें भी राखी गई हैं. किसान को तरकारी एप से जुड़ने के लिए अपने जिले की सब्जी उत्पादक समिति से भी जुड़ना पड़ेगा. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की पुरे प्रदेश में कुल 25 हजार सब्जी उत्पादक ही सब्जी समिति से जुड़े हुए हैं. सहकारिता विभाग द्वारा सब्जी उत्पादक किसानों को समिति से जोड़ने की कोशिश में जुटा हुआ है. 

नया मोटर नियम: सड़क दुर्घटना में मौत पर परिवार को 5 लाख मुआवजा देगी बिहार सरकार, घायल को 50 हजार

कोरोना काल के दौरान वेजफेड द्वारा सब्जी किसानों के लिए एक ऑनलाइन एप बनाया गया था. लेकिन किसानों का आरोप था की समितियों के अध्यक्ष उनके साथ पक्षपात वाला रवैया अपनाते थे. समिति अध्यक्षों पर किसानों ने अपने पसंद के किसानों से सब्जी खरीदने का आरोप लगाया था. जिससे काफी किसानों को सब्जी समिति में जाकर बेचनी होती थी. इसी कारण सहकारिता विभाग तरकारी एप की शुरुआत करने जा रहा है. साथ ही सरकार किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड भी दे रही है. जिसके लिए सहकारी बैंकों ने काम शुरू कर दिया है. इसके लिए सब्जी उत्पादक को समिति से जुड़ना अनिवार्य होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें