बिहार में स्वास्थ्य संविदा कर्मचारियों की हड़ताल वापस, मरीजों की मुश्किल टली

Smart News Team, Last updated: Thu, 13th May 2021, 8:45 PM IST
  • मानदेय बढ़ाने समेत कई मांगों को लेकर बुधवार को हड़ताल और होम आइसोलेशन पर चले गए बिहार के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी काम पर लौट आए हैं. इनके संघ ने हड़ताल वापस लेने और होम आइसोलेशन खत्म करने का ऐलान किया है.
बिहार में कांट्रेक्ट हेल्थ वर्कस ने हड़ताल वापस ली.

पटना. बिहार में नीतीश कुमार सरकार और कोरोना के मरीजों दोनों के लिए गुरुवार को एक राहत भरी खबर आई कि राज्य में स्वास्थ्य विभाग के संविदा (कॉन्ट्रैक्ट) कर्मचारियों ने अपनी हड़ताल वापस ले ली है. राज्य में बुधवार से ही करीब 27 हजार स्वास्थ्य संविदा कर्मचारी होम आइसोलेशन हड़ताल पर चले गए थे जिससे पूरे राज्य में सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के इलाज पर गहरा असर पड़ा था. बिहार स्वास्थ्य संविदा कर्मी संघ के सचिव ललन कुमार सिंह ने संघ से जुड़े स्वास्थ्य कर्मचारियों के हड़ताल और होम आइसोलेशन पर जाने के फैसले को वापस लेने की घोषणा की है.

बिहार में मेडिकल इंतजाम और कोरोना से संघर्ष की जमीनी सच्चाई यही है कि डॉक्टर बंद और सुरक्षित कमरों से मरीजों की हालत की निगरानी और इलाज कर रहे हैं जबकि संक्रमित मरीजों के पास जाकर उनको दवा देने और बाकी काम नर्स, कंपाउंडर और ऐसे ही संविदा कर्मचारी करते हैं. संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की 9 मांगें हैं जिसको लेकर कुछ समय पहले इन लोगों ने काला बिल्ला लगाकर भी सरकार से विरोध जताया था. 

पटना AIIMS और IGIMS में ब्लैक फंगस के 2 नए मरीज, बिहार में कुल 8 केस

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की प्रमुख मांग है कि उनका वेतन पुनरीक्षण कर मानदेय बढ़ाया जाए, पारिवारिक पेंशन समेत दूसरी सुविधा भी मिले, कोविड ड्यूटी में लगे संविदा कर्मचारियों का 50 लाख का बीमा कराया जाए, संविदा कर्मचारियों को भी दुर्घटना और स्वास्थ्य बीमा का लाभ दिया जाए, कोरोना ड्यूटी में मौत होने पर आश्रित परिवार को पेंशन दिया जाए. 

चिराग पासवान कोविड पॉजिटिव, दिल्ली आवास पर करवा रहे कोरोना का इलाज 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें