बिहार चुनाव: जिन्ना को लेकर मचा सियासी घमासान, कांग्रेस ने बीजेपी पर साधा निशाना

Smart News Team, Last updated: 17/10/2020 03:26 PM IST
  • बिहार चुनाव में जिन्ना को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच सियासी घमासान शुरू हो गया है। शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जाले से कांग्रेसी उम्मीदवार के जिन्ना वादी होने के सवाल पर कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने इसे पूरी तरह गलत बताया है।
कांग्रेस ने भाजपा पर लगाया आरोप

पटना: बिहार में सियासी हलचलें तेज हो गई हैं। शनिवार को महागठबंधन का संकल्प पत्र जारी किया गया। इस दौरान जिन्ना पर भी बात छिड़ी। कॉन्फ्रेंस में जाले से कांग्रेसी उम्मीदवार के जिन्ना वादी होने के सवाल पर कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने इसे पूरी तरह गलत बताया।

कांग्रेस द्वारा जिन्ना समर्थक उम्मीदवार को टिकट दिए जाने पर मचे बवाल को लेकर सुरजेवाला ने भाजपा को दोषी बताया है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सुरजेवाला ने कहा, 'ध्यान भटकाने के लिए भाजपा नफरत की फैक्ट्री में विवाद की तैयारी कर रही है। हमारे जाले उम्मीदवार ने जिन्ना की विचारधारा का कभी साथ नहीं दिया। जब वह एएमयू के छात्र थे, तो उन्होंने एएमयू, संसद और बॉम्बे उच्च न्यायालय से जिन्ना के चित्र हटाने के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने कभी इसका जवाब नहीं दिया।' उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा के अध्यक्ष जिन्ना की मजार पर मत्था टेकें और हमसे सवाल पूछे जा रहे हैं?

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला

बिहार चुनाव: महागठबंधन ने खोला पिटारा, घोषणा पत्र में विशेष दर्जे दिलाने का वादा

बता दें कि, बिहार विधानसभा चुनाव में अब मोहम्‍मद अली जिन्‍ना का जिन्‍न घुस आया है। जिन्ना को लेकर भाजपा और कांग्रेस के बीच सियासी घमासान शुरू हो गयी है। भाजपा ने कांग्रेस उम्मीदवार पर जिन्ना समर्थक होने का आरोप लगाया है। गौरतलब है कि कांग्रेस ने जाले विधानसभा सीट पर मशकूर अहमद उस्मानी को टिकट दिया है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय छात्रसंघ का अध्‍यक्ष रहते हुए साल 2018 में मशकूर अहमद उस्‍मानी ने विश्‍वविद्यालय में लगी मोहम्‍मद अली जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने का विरोध किया था। इसपर अब बिहार की सियासत गरमा गई है।

रविशंकर प्रसाद का बड़ा बयान, बिहार चुनाव में NDA के चारों दल चट्टानी एकता के साथ

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दावा किया है कि उस्मानी ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र संघ में रहते हुए जिन्ना की तस्वीर लगाई थी। इस यूनिवर्सिटी से जिन्ना की तस्वीर हटाए जाने पर उन्होंने काफी बवाल मचाया था। मुकदमे के बाद जब पुलिस ने छापेमारी की थी तो कार्यालय से जिन्ना की तस्वीर बरामद हुई थी।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें