बिहार चुनाव: जनता को लुभाने के लिए प्रदेश में नेता और कार्यकर्ताओं ने डाला डेरा

Smart News Team, Last updated: Mon, 19th Oct 2020, 8:06 PM IST
  • चुनावी रंग पूरे बिहार में दिखने लगा है. हर एक सियासी पार्टी के अपने अपने दावे हैं और अपने अपने वादे हैं. सबकी कोशिश यही है कि किसी तरह से बिहार की जनता को लुभा लिया जाए.
बिहार चुनाव में अपनी-अपनी पार्टी का माहौल बनाने में जुटे नेता

पटना: बिहार चुनाव के पहले चरण के मतदान में अब मात्र 9 दिन बचे हैं. जिसे लेकर तमाम राजनीतिक दल जबरदस्त चुनावी प्रचार में जुटे हैं. चुनावी रंग पूरे बिहार में दिखने लगा है. हर एक सियासी पार्टी के अपने अपने दावे हैं और अपने अपने वादे हैं. सबकी कोशिश यही है कि किसी तरह से बिहार की जनता को लुभा लिया जाए. बिहार के लोगों को कैसे और किसे वोट देना है, यह समझाने के लिए देश के हर हिस्से से नेता और कार्यकर्ता प्रदेश में पहुंचे हैं.

बीजेपी, कांग्रेस, सीपीआई, रालोसपा जैसे दलों की ओर से कई प्रदेशों से नेता और कार्यकर्ता बिहार चुनाव में पार्टी का माहौल बनाने लिए पहुंच चुके हैं, या पहुंच रहे हैं. औवैसी, मायावती की पार्टी भी किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती.

भारतीय जनता पार्टी ने सबसे पहले बिहार चुनाव में प्रचार के लिए अपने स्टार प्रचारकों को उतारा है. जिसमें भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बिहार चुनाव के प्रभारी बनाए गए देवेंद्र फडनवीस, भाजपा के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव और राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा का नाम शामिल है. 23 से पीएम मोदी भी बिहार में एनडीए के लिए माहौल बनाएंगे.

बिहार चुनाव: टिकारी में चुनावी रैली के दौरान विपक्ष पर गरजे जीतनराम मांझी

वहीं, महागठबंधन के साथ चुनाव में उतर रही कांग्रेस भी पीछे नहीं है. कांग्रेस के चुनाव अभियान को परवान चढ़ाने के लिए जल्द ही राहुल गांधी भी बिहार पहुंच रहे हैं. कांग्रेस की तरफ से बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, चुनाव प्रबंधन समिति के अध्यक्ष रणदीप सिंह सूरजेवाला, छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, यूपी से डॉ. हर्षवद्र्धन श्याम समेत अन्य प्रमुख नेता चुनाव प्रबंधन एवं प्रचार अभियान में शामिल हैं.

थाना अगमकुआं क्षेत्र के दो घरों में चोरों ने नकदी और जेवरों पर हाथ साफ किए

इधर, यूपी से बिहार पहुंचे बसपा के दर्जन भर नेता अपने उम्मीदवारों के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे हैं. वामपंथी दलों में भाकपा के उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार के लिए कई राज्यों के नेता चुनाव प्रचार के लिए मैदान में सक्रिय हैं.

आपको याद दिला दें कि बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को खत्म हो रहा है. चुनाव आयोग ने तीन चरणों में मतदान कराने का ऐलान किया है. 28 अक्टूबर, 3 नवंबर और 7 नवंबर को बिहार में वोट पड़ेंगे. 10 नवंबर को सूबे के भाग्य का फैसला हो जायेगा. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें