बिहार चुनाव: पप्पू यादव की पार्टी (जाप) का नहीं खुला खाता, सभी सीटों पर मिली हार

Smart News Team, Last updated: 10/11/2020 08:44 PM IST
  • मधेपुरा विधानसभा सीट से राजद के चंद्रशेखर ने पप्पू यादव को भारी मतों से पराजित किया है. इस विधानसभा चुनाव में पप्पू यादव की पार्टी (जाप) अपना खाता भी नहीं खोल सकी.
जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में एक के बाद एक ताबड़तोड़ चुनावी सभाएं करने के बाद भी जन अधिकार पार्टी (जाप) सुप्रीमो पप्पू यादव के हाथ निराशा ही लगी है. चुनावी महासमर में 154 सीटों पर किस्मत आजमाने उतरे पप्पू यादव समेत उनकी पार्टी को भारी हार का सामना करना पड़ा है. मधेपुरा विधानसभा सीट से राजद के चंद्रशेखर ने पप्पू यादव को भारी मतों से पराजित किया है. इस विधानसभा चुनाव में पार्टी अपना खाता भी नहीं खोल सकी.

मधेपुरा विधानसभा सीट की बात की जाए तो राजद के चंद्रशेखर ने यहां जीत दर्ज की. यहां दूसरे नंबर पर जदयू के निखिल मंडल रहे. राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को तीसरे नंबर पर रहकर हार का सामना करना पड़ा. राजद के चंद्रशेखर को 39,505 वोट मिले हैं. वहीं, जदयू के निखिल मंडल को 32,954 व जाप के पप्पू यादव को 17,525 वोट मिले हैं.

BJP के नवीन किशोर सिन्हा के बेटे नितिन नवीन ने बांकीपुर में चौथी बार दर्ज की जीत

गौरतलब है कि लोकसभा चुनावों में बुरी तरह से हार के बाद बिहार विधानसभा के चुनाव पप्पू यादव के लिए काफी अहम थे. 2019 में संसदीय सीट हारने के बाद से पप्पू यादव का पूरा ध्यान पार्टी और उम्मीदवारों की ओर केंद्रित था. चुनाव से पहले कोरोना में उन्होंने मुसीबत में फंसे लोगों की मदद भी की. चुनाव के पहले उन्होंने कई दलों को साथ लेकर बिहार में प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक एलायंस भी बनाया. लेकिन उनकी हर कोशिश को जनता ने नकार दिया है.

Bihar Ghosi result: CPI के राम बलि सिंह यादव जीत से एक कदम दूर, 22 हजार तक की बढ़त

आज आए विधानसभा नतीजों में 154 स्थानों में से महज तीन पर पप्पू यादव की पार्टी को जनता ने वोट तो दिए, लेकिन कोई भी उम्मीदवार जीत हासिल नहीं कर सका. जमुई में जाप प्रत्याशी शमशाद आलम को करीब 14 हजार, वाल्मीकि नगर में उनके प्रत्याशी सुमंत कुमार को 17 हजार और मधेपुरा में पप्पू यादव को साढ़े 17 हजार के आसपास वोट मिले. लेकिन पप्पू यादव और उनकी पार्टी की किस्मत में हार के सिवा कुछ नहीं आया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें