पुष्पम प्रिया ने की राष्ट्रपति शासन में बिहार चुनाव कराने की मांग, लिखा ख़त

Smart News Team, Last updated: 18/10/2020 02:38 PM IST
  • नवगठित 'द प्लूरल्स पार्टी' की अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी ने पत्र लिखकर राष्ट्रपति से केंद्र सरकार और चुनाव आयोग को राष्ट्रपति शासन के तहत विधानसभा चुनाव कराने का निर्देश देने की मांग की है.
बिहार चुनाव: पुष्पम प्रिया चौधरी प्लुरल्स पार्टी के 28 उम्मीदवारों के नाम खारिज

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार जिस नाम की सबसे ज्यादा चर्चा है वह है पुष्पम प्रिया चौधरी. पुष्पम जेडीयू नेता और पूर्व MLC विनोद चौधरी की बेटी हैं. नवगठित द प्लूरल्स पार्टी की प्रमुख पुष्पम प्रिया ने सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है. अपनी पार्टी की वह मुख्यमंत्री उम्मीदवार हैं. प्लूरल्स अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी ने पत्र लिखकर राष्ट्रपति से केंद्र सरकार और चुनाव आयोग को राष्ट्रपति शासन के तहत विधानसभा चुनाव कराने का निर्देश देने की मांग की है.

बिहार में नवगठित प्लूरल्स पार्टी की अध्यक्ष और मुख्यमंत्री पद की दावेदार पुष्पम प्रिया चौधरी ने आगामी बिहार विधासभा चुनाव को लेकर राष्ट्रपति को पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने बिहार में निष्पक्ष और भयमुक्त वातावरण में चुनाव कराने के लिए प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है. पत्र में उन्होंने अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के साथ अभद्रता और मारपीट किए जाने का आरोप लगाया है.

अमित शाह ने खोला राज, बिहार में NDA से क्यों अलग हुई LJP?

पुष्पम प्रिया ने राष्ट्रपति को पत्र लिख कर कहा है कि 'हमलोग युवा, समर्पित और शिक्षित हैं. हमारा कोई आपराधिक इतिहास भी नहीं है. हम सिर्फ बिहार का विकास करना चाहते हैं, इसका हमें अधिकार भी है. लेकिन हमारे सामान्य, निर्दोष उम्मीदवारों को धमकाया जाता है. उनके साथ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया जाता है. यहां तक कि उन्हें पीटा भी जा रहा है. महिला उम्मीदवार पर टिप्पणी और उनका उपहास उड़ाया जाता है.'

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के हेलीकॉप्टर के साथ पटना एयरपोर्ट पर हादसा

उन्होंने यह भी लिखा है कि 'अगर हमलोग आजाद भारत में रहते हैं तो हमारे उम्मीदवारों को भी साफ सुथरे माहौल में बिना किसी धमकी के चुनाव लड़ने का मौका मिलना चाहिए. हमारे उम्मीदवारों के साथ किस तरह का दुर्व्यवहार किया जा रहा है इसकी कॉपी मैं संलग्न कर रही हूं.'

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें