आय से अधिक संपत्ति मामले में IPS राकेश कुमार दुबे के ठिकानों पर EOU की छापेमारी

Nawab Ali, Last updated: Thu, 16th Sep 2021, 9:26 PM IST
  • बिहार के भोजपुर के एसपी रहे आईपीएस राकेश कुमार दुबे के चार ठिकानों पर गुरुवार को आर्थिक अपराध इकाई ने छापेमारी की. आईपीएस राकेश कुमार दुबे के खिलाफ 15 सितंबर को आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में ईओयू ने मामला दर्ज किया था.
आईपीएस राकेश कुमार दुबे के चार ठिकानों पर आर्थिक अपराध इकाई ने छापेमारी की. (फाइल फोटो)

पटना. बिहार के भोजपुर के एसपी रहे आईपीएस राकेश कुमार दुबे के चार ठिकानों पर गुरुवार को आर्थिक अपराध इकाई ने छापेमारी की. आईपीएस राकेश कुमार दुबे के खिलाफ 15 सितंबर को आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में ईओयू ने मामला दर्ज किया था. जिसके बाद आईपीएस राकेश कुमार दुबे के पटना और झारखंड में दो-दो ठिकानों की तलाशी पर करोड़ों रूपये की संपत्ति का खुलासा हुआ है. फिलहाल आईपीएस राकेश कुमार दुबे आय से अधिक संपत्ति रखने के मामलों में निलंबित चल रहे हैं.

आईपीएस राकेश कुमार दुबे के खिलाफ ईओयू ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. राकेश कुमार दुबे के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के गंभीर आरोप को लेकर आर्थिक अपराध इकाई ने छापेमारी की है. ईओयू की जांच में कई चौनाकने वाले खुलासे सामने आये हैं. राकेश कुमार दुबे कई रियल स्टेट कंपनियों में पैसा लगाया हुआ है. इसके आलावा उनकी बालू खनन के काम में संलिप्ता पाई गई जिसके बाद से वो निलंबित चल रहे हैं. 

नए छात्र संगठन के पैड पर राजद नाम और चिन्ह देख भड़के तेजप्रताप, हटाने का दिया निर्देश

ईओयू ने राकेश कुमार दुबे के पटना स्थित एसके पुरी स्थित गांधी पथ के मकान और दानापुर के जलालपुर स्थित अभियंता नगर के सुदामा पैलेस के फ्लैट संख्या 204 की तलाशी ली वहीं झारखंड के जसीडीह के सिमरिया स्थित पैतृक घर और जसीडीह के सचीन्द्र रेसिडेंसी नामक होटल में भी छापेमारी की गई.

रजनी देवी बनीं पटना नगर निगम की नई डिप्टी मेयर, पक्ष में मिले 43 वोट

आईपीएस अधिकारी राकेश कुमार दुबे के खिलाफ छापेमारी में 2 करोड 55 लाख रुपए आय से अधिक की संपत्ति का खुलासा हुआ है. ईओयू की जांच में खुलासा हुआ है कि राकेश दूबे ने अपने पद का दुरुपयोग कर काफी संपत्ति अर्जित की है, जिसमें जमीन, फ्लैट, दुकान और भूखंड शामिल हैं. ईओयू का कहना है कि उन्होंने परिजनों, मित्रों, व्यवसायिक सहभागियों और अन्य के माध्यम से मनी लॉन्ड्रिंग कर काले धन को सफेद बनाने का प्रयास किया. 

पटना-जयनगर इंटरसिटी को नहीं मिल रहे यात्री, इस कारण पटरी पर खाली दौड़ रही ट्रेन

ईओयू के अनुसार उन्होंने आईपीसी इंफ्रास्ट्रक्चर (देवघर, रांची), कामिनी इंफ्रास्ट्रक्चर प्रा.लि (निदेशक जावेद खान), पाटलिपुत्रा बिल्डर्स (निदेशक, अनिल कुमार), ख्याति कंस्ट्रक्शन, मैक्स ब्लिफ नोएडा (प्रोपराइटर, अजय शर्मा), बिल्डकॉन एवं अन्य बिल्डर्स के साथ उनकी कंपनियों में नगद राशि का निवेश कर रखा है. तलाशी के दौरान ख्याति कंस्ट्रक्शन के बैंक खाते में 25 लाख रुपए हस्तांतरित करने के साक्ष्य भी मिले.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें