BJP नेता नीरज कुमार बोले- जातीय जनगणना की नहीं जनसंख्या नियंत्रण कानून की जरूरत

Ankul Kaushik, Last updated: Sun, 26th Sep 2021, 3:18 PM IST
  • बिहार सरकार के वन एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री और बीजेपी नेता नीरज कुमार ने जातीय जनगणना को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. नीरज कुमार ने कहा है कि जाति जनगणना की जरूरत अभी नहीं है जनसंख्या नियंत्रण कानून की देश में जरूरत है.
बिहार के वन पर्यावरण मंत्री व बीजेपी नेता नीरज कुमार बबलू, फोटो क्रेडिट ( नीरज कुमार ट्विटर)

पटना. जातीय जनगणना को लेकर बिहार के वन पर्यावरण मंत्री व बीजेपी नेता नीरज कुमार बबलू ने एक बड़ा बयान दिया है. नीरज कुमार बबलू ने जाति जनगणना को लेकर कहा कि अभी देश में जाति जनगणना की जरूरत नहीं है. इस समय देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून की जरूरत है. इसके साथ ही बीजेपी नेता नीरज कुमार ने कहा कि बीजेपी ने पिछड़ों के विकास के लिए शानदार काम किया है. वहीं उन्होंने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम प्रमुख जीतन राम मांझी के जातिगत जनगणना करने के समर्थन पर कहा कि मांझी को अच्छे काम पर ध्यान देना चाहिए. बता दें कि हाल ही में मांझी ने कहा था कि हक दिलाने के लिए जाति जनगणना जरूरी है.

इसके साथ ही बिहार में बीजेपी कोटे से खान एवं भूतत्व विभाग के मंत्री जनक राम ने भी जाति जनगणना पर अपनी राय दी है. जनक राम ने हम प्रमुख जीतन राम मांझी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जाति जनगणा के विषय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी की बात सुनी थी. अब प्रधानमंत्री के फैसले का सब लोगों को इंतजार है और पीएम मोदी का जाति जनगणना पर फैसला अंतिम निर्णय होगा.

जितनी जाति उतनी भागीदारी के लिए जाति जनगणना जरूरी- जीतन राम मांझी

बता दें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी. हालांकि हाल ही में अब सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने जातीय जनगणना कराने से इनकार कर दिया है. केंद्र सरकार का कहना है जातीय जनगणना कराना बेहद मुश्किल और बेझिल काम है. वहीं केंद्र सरकार के इस बयान के बाद बिहार में बीजेपी के सहयोगी और विपक्षी दल केंद्र सरकार पर हमलावर हैं. वहीं केंद्र के इस फैसले पर राजद ने कहा है कि संघी केंद्र सरकार के द्वारा जातिगत जनगणना नहीं करवाने का बस इतना ही कारण है कि भाजपा पिछड़े वर्गों को सदा के लिए दबा और पिछड़ा ही रखना चाहती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें