ब्राह्मणों पर विवादित बयान के बाद जीतन राम मांझी के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात

Smart News Team, Last updated: Thu, 23rd Dec 2021, 3:05 PM IST
ब्राह्मणों पर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी द्वारा किये गए विवादित बयानों के बाद सियासत गर्म है. इसी बीच कुछ ब्राह्मण संगठनों ने मांझी के पटना स्थित आवास पर प्रदर्शन और पूजा पाठ करने का एलान कर दिया है. जिसके बाद बिहार पुलिस ने मांझी के घर के बाहर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है. 
ब्राह्मणों पर विवादित बयान के बाद जीतन राम मांझी के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात

पटना. पिछले दिनों बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक शब्‍दों का इस्‍तेमाल किया था. बुधवार को गया में भी उन्‍होंने अपनी बात दोहराई. इसी बीच कुछ ब्राह्मण संगठनों ने मांझी के पटना स्थित आवास पर प्रदर्शन और पूजा पाठ करने का एलान कर दिया है. 

जिसके बाद बिहार पुलिस ने मांझी के घर के बाहर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है. सचिवालय थाने की पुलिस वहां अलर्ट मोड में तैनात है. उनके आवास के आसपास का इलाका छावनी में तब्‍दील हो गया. प्रदर्शनकारियों के आने की स्थिति में उन्‍हें रोकने के लिए बैरिकेडिंग की तैयारी भी पुलिस ने कर रखी है. मांझी के आवास की सुरक्षा गुरुवार को भी कड़ी रखी गई है.

विवादित बयान पर मांझी की सफाई, बोले- विरोध ब्राह्मण नहीं ब्राह्मणवाद का है

ब्राह्मण संगठनों ने दी थी आंदोलन की चेतावनी 

मालूम हो कि पश्चिमी चंपारण में रविवार को आयोजित एक कार्यक्रम में पूर्व सीएम ने आपत्तिजनक बातें कहीं थीं. इसके बाद सियासत गरमा गई. जगह-जगह उनका पुतला फूंका गया. मामला तब और गर्म हो गया जब भाजपा के एक नेता ने उनकी जुबान काटने पर 11 लाख रुपये के इनाम की घोषणा कर दी. 

हालांकि, भाजपा नेता को पार्टी ने इसको लेकर निलंबित कर दिया है. इस बीच मांझी की पार्टी हम की ओर से भी करारा पलटवार किया गया. पक्ष-विपक्ष के नेताओं ने मांझी के बयान पर आपत्ति जताई. इस बीच एक बार फिर मांझी ने बोधगया में ऐसी बातें कह दी हैं जिससे मामला शांत होता नहीं दिख रहा. उन्‍होंने कहा कि ब्रह्म को जानने वाला ब्राह्मण होता है. 

उन्होंने आगे कहा कि ऐसे ब्राह्मण का वे सम्‍मान करते हैं लेकिन आज ब्राह्मण के नाम पर कई लोग पोथी-पतरा लेकर निकल जाते हैं. उन्‍हें तनिक भी ज्ञान नहीं होता. ब्राह्मण होते हुए भी वे मांस-मदिरा का सेवन करते हैं. उन्‍होंने अपशब्‍द का इस्‍तेमाल करते हुए कहा कि हम इस शब्‍द का उपयोग बार-बार करते रहेंगे.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें