बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 5 अप्रैल तक इन सभी अधिकारियों की छुट्टी हुई कैंसिल

Smart News Team, Last updated: Sat, 20th Mar 2021, 7:50 AM IST
  • बिहार में 5 अप्रैल तक डॉक्टर, संविदा डॉक्टर, मेडिकल ऑफिसर, अधीक्षक, प्राचार्य, निदेशक प्रमुख, जूनियर रेजिडेंट, सीनियर रेजिडेंट, पारा मेडिकल कर्मी, जीएनएम, एएनएम कर्मियों की सभी छुट्टियां रद्द रहेगी.
बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 5 अप्रैल तक इन सभी अधिकारियों की छुट्टी हुई कैंसिल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना: बिहार में एकबार फिर कोरोना संक्रमण के प्रसार को देखते हुए स्वास्थ ने बड़ा कदम उठाया है और 5 अप्रैल तक डॉक्टर से लेकर अधिकारियों तथा स्वास्थ विभाग की सभी छुट्टियां कैंसिल कर दी है. गुरुवार को स्वास्थ विभाग के प्रधान सचिव ने अधिकारीयों के साथ बैठकर आदेश जारी किया है. 5 अप्रैल तक डॉक्टर, संविदा डॉक्टर, मेडिकल ऑफिसर, अधीक्षक, प्राचार्य, निदेशक प्रमुख, जूनियर रेजिडेंट, सीनियर रेजिडेंट, पारा मेडिकल कर्मी, जीएनएम, एएनएम कर्मियों की सभी छुट्टियां रद्द रहेगी.

बिहार सरकार प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने सभी सिविल सर्जन और डीएम को ये भी निर्देश दिया है कि जो भी कर्मी अभी छुट्टी पर हैं. उनकी छुट्टी को तत्काल निरस्त करते हुए उन्हें वापस ड्यूटी पर लगाया जाए. राज्य में कोरोना के मामले रोजाना दोगुना हो रहा है. और नए मरीजों की संख्या रोज बढ़ रही है. इधर राज्य स्वास्थ्य समिति ने सभी अस्पतालों से कर्मियों की सूची भी मांगी है, जिसके आधार पर पीपीई किट, मास्क,ग्लब्स और सैनिटाइजर की व्यवस्था कराई जा रही है.

मंत्री राम सूरत राय के बयान पर भड़के तेज प्रताप यादव, कहा- ये सब लोग गुंडे हैं

राज्य के सभी अस्पताल जैसे पीएमसीएच, एनएमसीएच और एम्स को हाई पर अलर्ट रखा गया है और आइसोलेशन में बेड के साथ-साथ आइसीयू बढ़ाने के भी निर्देश दिए गए हैं. मालूम हो की राज्य में कोरोना संक्रमण का फैलाव बहुत तेजी से है, पिछले 24 घंटे में बिहार में 107 नए मरीजों में कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई है तो पटना हॉट स्पॉट बनने लगा है.

पटना: अपराधियों का आतंक, गार्ड को गोली मारकर ICICI बैंक के ATM में 9 लाख की लूट

पिछले साल के कोरोना संक्रमण के फैलाव के बाद पटना में एक दिन कुल 26 मरीज पाए गए. और भागलपुर में भी 11 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है तो कई नए जिलों में भी भोजपुर, रोहतास, सीतामढ़ी समेत कुल 26 जिलों में मरीज मिले हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें