बिहार के सरकारी हॉस्पिटल की खुली पोल, झोलाछाप डॉक्टर ने की 10 महिलाओं की नसबंदी

Swati Gautam, Last updated: Sun, 28th Nov 2021, 7:45 PM IST
  • बिहार के अरवल के करपी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 24 नवंबर को कैंप लगाकर 21 महिलाओं की नसबंदी की जानी थी जिसमें झोलाछाप डॉक्टर द्वारा नसबंदी किए जाने की बात सामने आई है. वीडियो वायरल होने के बाद से मामला तूल पकड़ने लगा है.
बिहार के सरकारी हॉस्पिटल की खुली पोल, झोलाछाप डॉक्टर ने की 10 महिलाओं की नसबंदी file photo

पटना. बिहार के अरवल के करपी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 24 नवंबर को कैंप लगाकर 21 महिलाओं की नसबंदी की जानी थी जिसको लेकर सर्जन की नियुक्ति को गई थी. इस दौरान झोलाछाप डॉक्टर द्वारा नसबंदी किए जाने की बात से स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मचा हुआ है. इसको लेकर एक वीडियो भी वायरल हो रही है जिसके बाद से मरीजों के परिजनों में आक्रोश है. झोलाछाप डॉक्टर द्वारा किए जा रहे ऑपरेशन का वीडियो भी की किसी मरीज के परिजन द्वारा बनाया गया है जो कि आजकल सोशल मीडिया पर भी जमकर वायरल हो रहा है.

खबरों के अनुसार निजी नर्सिंग होम चलाने वाले झोलाछाप डॉक्टर उपेंद्र कुमार ने भी कैंप में 10 महिलाओं का नसबंदी का ऑपरेशन किया था. वहीं वायरल हो रही वीडियो में भी साफ देखा जा सकता है कि एक सर्जन महिला का ऑपरेशन कर रहे हैं तो वहीं उनके ठीक दूसरी तरफ एक झोलाछाप डॉक्टर भी नसबंदी का ऑपरेशन करते नजर आ रहे हैं. इतना ही नहीं वीडियो में कैंप की स्थिति भी खराब दिख रही है. जहां ऑपरेशन थिएटर बिल्कुल खुला हुआ है और किसी तरह की प्राइवेसी नहीं है और महिलाओं का ऑपरेशन किया जा रहा है.

पटना : फीस मांगने पर प्रिंसिपल का दुपट्टा खींच बेरहमी से पीटा, FIR दर्ज

मामले धीरे धीरे तूल पकड़ने लगा है जिसके बाद सिविल सर्जन डॉ अरविंद कुमार ने कहा कि सरकारी अस्पताल में झोलाछाप डॉक्टर का इलाज करना बिल्कुल ही गलत है. उन्होंने आगे कहा कि इस अस्पताल में झोलाछाप डॉक्टर कैसे पहुंचा, इसकी भी जांच की जाएगी. साथ ही वहां सर्जन नियुक्त किए गए हैं उन पर भी कार्रवाई की जाएगी. इसके बाद डीएम जे प्रियदर्शनी ने बताया कि पहले वीडियो की जांच की जाएगी तभी कुछ भी कहा जा सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें