बिहार में अधिकारियों को MP MLA का करना होगा सम्मान, सरकार ने जारी किए निर्देश

Haimendra Singh, Last updated: Tue, 16th Nov 2021, 12:19 PM IST
  • बिहार के सामान्य प्रशासन विभाग ने राज्य के सभी वरिष्ठ अधिकारी (जैसे- अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, सचिव, सभी विभागाध्यक्ष, पुलिस महानिदेशक, प्रमंडलीय आयुक्त तथा जिलाधिकारी) को पत्र लिखकर निर्देश जारी किया है कि अधिकारियों के राज्य के सांसद, विधायक और विधान परिषद के सदस्य के पद का सम्मान करना होगा.
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार.( फाइल फोटो)

पटना. बिहार सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग ने राज्य के सभी अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, सचिव, सभी विभागाध्यक्ष, पुलिस महानिदेशक, प्रमंडलीय आयुक्त तथा जिलाधिकारियों को पत्र भेजा है. इस पत्र में कहा गया है कि यदि कोई सांसद, विधायक, विधान परिषद सदस्य( जनप्रतिनिधि ) राज्य के किसी कार्य को लेकर अधिकारियों से कोई जबाव मांगता है तो अधिकारियों इसका उत्तर समय पर देना होगा. साथ ही कोई नेता मौखिक रुप से सरकारी सूचना मांगता है तो उससे संबंधित अधिकारियों को वह सूचना विनम्रतापूर्वक देनी होगी. राजनीतिक विशेषज्ञ माना जा रहा है कि इस फैसले से राज्य में नेताओं का रुतबा बढ़ेगा.

जानकारी के अनुसार, सामान्य प्रशासन विभाग ने सोमवार को राज्य के सभी अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, सचिव, सभी विभागाध्यक्ष, पुलिस महानिदेशक, प्रमंडलीय आयुक्त तथा जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि नेताओं के द्वारा किसी कार्य की जानकारी लेने पर अधिकारियों के इस जबाव तय वक्त के दौरान ही देना होगा. इस पत्र में पुराने निर्देशों को भी जिक्र किया गया है जिसमें सरकारी कर्मियों व अधिकारियों को संसद सदस्यों तथा राज्य विधानमंडल के सदस्यों के साथ विनम्रता तथा शिष्टाचार का पेश आना होगा.

नीतीश बोले- कंगना रनौत के आजादी जैसे बयानों को मजाक में उड़ा देना चाहिए

यदि जनप्रतिनिधि द्वारा मांगी गई किसी सूचना का जबाव देने में अधिकारी असमर्थता है तो वह विनम्रतापूर्वक मना भी कर सकते है. पत्र में लिखे गए निर्देशों को अनुसार ये भी कहा गया है कि कोई सांसद व राज्य विधायक अधिकारियों से मिलने जाता है तो अधिकारियों को उन नेताओं का आदर्श से स्वागत करना है. आधिकारियों के नेताओं को पूरा सम्मान देना है. और यदि किसी कार्यक्रम में कोई सांसद आमंत्रित है तो उन्हें मुख्य अतिथि के राज्य के मुख्यमंत्री और राज्यपाल के तुंरत बाद बैठाना चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें