बिहार सरकार में शामिल JDU, VIP के बाद मांझी की HAM भी UP चुनाव में BJP से लड़ेगी

Smart News Team, Last updated: Thu, 23rd Dec 2021, 6:21 PM IST
  • VIP पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी के बाद हम पार्टी के चीफ जीतन राम मांझी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 लड़ने की घोषणा की है. जीतन राम मांझी ने कहा कि हम यूपी-विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं. गठबंधन में जगह मिलती है तो ठीक है वरना हम अकेले चुनाव लड़ सकते हैं.
बिहार सरकार में शामिल JDU, VIP के बाद मांझी की HAM भी UP चुनाव में BJP से लड़ेगी

पटना. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में मुकेश सहनी के नेतृत्व वाली विकासशील इंसान पार्टी VIP के बाद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के नेतृत्व वाली पार्टी हम-एस भी यूपी चुनाव लड़ने जा रही है. हम-एस के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने कहा कि हम यूपी-विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं. गठबंधन में जगह मिलती है तो ठीक है वरना हम अकेले चुनाव लड़ सकते हैं. इसके लिए उनके समाज के लोगों ने संपर्क करना शुरू कर दिया है.
हम-एस के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि पार्टी के पदाधिकारी 26 दिसंबर के बाद किसी भी दिन यूपी चुनाव को लेकर बैठक होगी. जिसमें पदाधिकारियों के परामर्श से सीटों कि संख्या पर फैसला किया जाएगा. HAM-S और VIP दोनों ने 2020 के विधानसभा चुनाव के दौरान बिहार में क्रमशः 7 और 11 सीटों पर चुनाव लड़ा था और चार-चार सीटों पर जीत हासिल की थी. संभावना लगाई जा रही है कि यूपी चुनाव 2022 में इसके साथ ही बिहार  की एनडीए दलों, बीजेपी, जेडी (यू), वीआईपी और हम-एस शामिल हो सकते है.

ब्राह्मणों पर विवादित बयान के बाद जीतन राम मांझी के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात

हाल ही में ब्राह्मणों के खिलाफ अपने विवादित बयानों से कोहराम मचाने वाले मांझी ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि उनके बयान से उपजे विवाद का असर यूपी चुनाव पर भी पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि अब देखना होगा कि इससे ज्यादा नुकसान किस पार्टी को होगा. यूपी चुनाव में भी दलितों, अनुसूचित जातियों और मुसलमानों के हितों का मुद्दा होगा.

पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कहा कि वह ब्राह्मणों का सम्मान करते हैं, लेकिन ब्राह्मणवाद का विरोध करते रहेंगे. उन्होंने कहा कि उचित ज्ञान और ज्ञान के बिना पूजा करने वाले पुजारियों से उन्होंने अपने समाज के लोगों को सावधान किया है. इसके लिए लोग कुछ भी कहते रहते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें