बिहार में औद्योगिक क्रांति लाने की नीतीश सरकार कर रही कोशिश, ये है प्लान

Smart News Team, Last updated: Fri, 26th Feb 2021, 8:03 PM IST
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को इथेनॉल उत्पादन, बंद चीनी मिलों की पुनर्स्थापना और नई चीनी मिलों की स्थापना को लेकर समीक्षा बैठक की है. जिसमें गन्ना और मक्के से इथेनॉल उत्पादन पर चर्चा हुई. इस संबंध में सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई मंत्रियों और अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में नीतीश सरकार औद्योगिक क्रांति लाने की कोशिश कर रही है. इसके लए बिहार में गन्ना और मक्का से इथेनॉल का उत्पादन होगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को इथेनॉल उत्पादन, बंद चीनी मिलों की पुनर्स्थापना और नई चीनी मिलों की स्थापना को लेकर समीक्षा बैठक की और पदाधिकारियों को निर्देश दिए. सीएम ने कहा कि राज्य में मक्के का उत्पादन बढ़ा है, इससे इथेनॉल का उत्पादन होगा.

समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में इथेनॉल उत्पादन के क्षेत्र में काफी निवेश आएंगे. रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. साथ ही बंद चीनी मिलों की शुरूआत होगी. गन्ना का भी उत्पादन बढ़ेगा और किसानों को इसका अधिक मूल्य मिलेगा. उन्होंने कहा कि मक्के से भी इथेनॉल का उत्पादन होगा. मक्का उत्पादक किसानों को भी काफी फायदा होगा.

नीतीश की दो टूक- बिहार में शराबबंदी जारी रहेगी, दारूबाज नशामुक्ति केंद्र जाएं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि 2006 से ही काफी प्रयास किए गए हैं. साल 2016 में बिहार औद्योगिक प्रोत्साहन नीति बनाई गई. किसी भी निवेशक के लिए इस नीति को बहुत ही बेहतर ढंग से बनाया गया है. सीएम ने कहा कि 2006 में ही गन्ने से इथेनॉल के उत्पादन के लिए केन्द्र को प्रस्ताव भेजा था, जिसे यूपीए की सरकार ने अस्वीकृत कर दिया था. अब केन्द्र सरकार ने इथेनॉल उत्पादन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है.

विधानसभा में बोले मंत्री मंगल पांडेय- बिहार में जल्द होगी 6300 अधिक डॉक्टरों की बहाली

एक अणे मार्ग में हुई इस समीक्षा बैठक में उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, डिप्टी सीएम रेणु देवी, उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन, गन्ना उद्योग सह विधि मंत्री प्रमोद कुमार, मुख्य सचिव दीपक कुमार, अपर मुख्य सचिव गृह आमिर सुबहानी, अपर मुख्य सचिव उद्योग ब्रजेश मेहरात्रा समेत कई अधिकारी मौजूद रहे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें