पटना DM का फरमान- अगर समय से नहीं हुआ जनता का काम तो अफसरों पर लगेगा भारी फाइन

Smart News Team, Last updated: Sun, 10th Jan 2021, 9:18 PM IST
  • पटना के डीएम डॉ. चन्द्रशेखर ने अधिकारियों को फरमान सुनाया कि अगर तय समय में लोगों का काम नहीं होगा तो उनको 5 हजार रुपए का जुर्माना देना होगा. इसकी वसूली अधिकारी के वेतन से होगी.
पटना डीएम चन्द्रशेखर ने फरमान सुनाया कि लोगों का काम तय समय में न करने वालों अफसरों को जुर्माना देना होगा.

पटना. पटना डीएम डॉ. चन्द्रशेखर ने पदभार संभालने के बाद अधिकारियों को फरमान सुनाया कि लोगों का काम तय समय में न करने वाले अधिकारियों को 5 हजार रुपए जुर्माना देना. शिकायत मिलने पर अधिकारी के वेतन से 5 हजार रुपए की वसूली की जाएगी. डीएम चन्द्रशेखर ने प्रखंडों और अंचल कार्यालयों का निरीक्षण किया. जिसमें लोग अधिकारी और कर्मचारियों की लापारवाही से परेशान दिखे. जिसके बाद डीएम ने जिला लोक शिकायत पदाधिकारी से लंबित मामलों की सूची मांगी है. 

डीएम चन्द्रशेखर ने कहा कि इस विषय पर सोमवार को वो समीक्षा बैठक करेंगे और लोगों की समस्या के समाधान के लिए त्वरित पहले भी करेंगे. समय पर काम नहीं करने वाले अधिकारियों से निर्धारित समय के बाद की अवधि मे प्रतिदिन 250 रुपए के हिसाब से या अधिकतम 5 हजार रुपए जुर्माना होगा. ये राशि अधिकारियों के वेतन से वसूली जाएगी.

पटना पुलिस महकमे में बड़ा फेरबदल, 9 थाने के SHO का ट्रांसफर

डीएम ने कहा कि समीक्षा के दौरान देखेंगे कि कितने अधिकारियों ने लंबे समय य लंबित मामलों का स्वतः संज्ञान लिया है. जिलाधिकारी चन्द्रशेखर ने नौबतपुर, मसौढ़ी, फुलवारीशरीफ, पालीगंज, फतुहा और बख्तियारपुर प्रखंड और अंचल कार्यालय के औचक निरीक्षण में पाया है कि लोग अपने सामान्य कामकाज कराने के लिए प्रखंड और अंचल कार्यालय आ तो रहे हैं लेकिन अधिकारी और कर्मचारियों की लापारवाही की वजह से उन्हें बेवजह परेशान होना पड़ रहा है. 

गुरु गोविंद सिंह जयंती पर रेलवे ने पटना साहिब स्टेशन पर बढ़ाए ट्रेनों के स्टोपेज

डीएम चन्द्रशेखर ने सभी अनुमंडल पदाधिकारी और डीसीएलआर को निर्देश दिए कि प्रखंड और अंचल कार्यालय में जिन मामलों को तय समय में पूरा नहीं किया गया, उनका संज्ञान लें. डीएम ने कहा, संबंधित अधिकारी को नोटिस जारी करके पूछें कि राज्य सरकार द्वारा निर्धारित समय सीमा के तहत काम क्यों नहीं हुआ? इसकी जानकारी मुख्यालय को भी दें. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें