बिहार प्रदेश JDU की नई कमिटी घोषित, एक तिहाई से ज्यादा महिलाओं को मिली जगह

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Jun 2021, 7:56 PM IST
  • जेडीयू ने अपनी नई टीम में 33 प्रतिशत महिलाओं को जगह देकर सबको चौंका दिया है. जदयू ऐसा करने वाली देश की पहली पार्टी बन गई है. बिहार प्रदेश जदयू अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा के नेतृत्व में 24 जून 2021 को नई टीम की घोषणा की गई.
बिहार प्रदेश JDU की नई कमिटी घोषित

पटना. बिहार प्रदेश जदयू अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा के नेतृत्व में 24 जून 2021 को जेडीयू की नई टीम की घोषणा की गई. पार्टी मुख्यालय स्थित कर्पूरी सभागार में उन्होंने पदाधिकारियों की सूची जारी की. इस मौके पर उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि जदयू ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए प्रदेश कमिटी में पहली बार 33 प्रतिशत से अधिक महिलाओं को जगह दी है. जदयू ऐसा करने वाली देश की पहली पार्टी है. बता दें कि नई टीम में 29 उपाध्यक्ष, 60 महासचिव, 114 सचिव, 1 कोषाध्यक्ष एवं 7 प्रवक्ताओं को जगह दी गई है.

जेडीयू की नई टीम की घोषणा के दौरान उनकी नई टीम के उपाध्यक्ष श्री लक्ष्मेश्वर राय (पूर्व मंत्री), श्री गुलाम गौस (विधानपार्षद), श्री ललन पासवान (विधायक), डॉ. रंजू गीता (पूर्व मंत्री), डॉ. नवीन कुमार आर्य, श्रीमती प्रमिला प्रजापति, महासचिव श्री अनिल कुमार, श्री चंदन कुमार सिंह, डॉ. एलबी सिंह, श्री राजीव नयन उर्फ राजू सिंह, डॉ. आसमां परवीन, प्रदेश प्रवक्ता श्री संजय सिंह (विधानपार्षद), प्रो. सुहेली मेहता, श्री अभिषेक झा, जदयू मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अमरदीप, पंचायती राज प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष श्री राधाचरण सेठ एवं युवा जदयू के अध्यक्ष श्री श्याम पटेल भी मौजूद रहे.

प्रेमिका के महंगे शौक पूरे करने को प्रेमी छिनता था फोन, ऐसे हुआ अरेस्ट

प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने बताया कि नई टीम का गठन मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री आरसीपी सिंह की प्रेरणा से किया गया है. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण प्रदेश कमिटी की घोषणा में विलंब हुआ. अब कोरोना की संभावित तीसरी लहर को रोकने हेतु पार्टी के जागरुकता अभियान के लिए नई टीम समर्पित होकर काम करेगी. साथ ही उन्होंने कहा कि कमिटी में महिलाओं के साथ ही युवाओं को प्रमुखता दी गई है. पार्टी ने जहां अनुभव का सम्मान किया है, वहीं युवा चेहरों पर भी भरोसा जताया है. इसके साथ ही समाज के सभी तबके को सम्मान दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें