बिहार में नौवीं से बारहवीं की छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए दी जाएगी कराटे की ट्रेनिंग

Anurag Gupta1, Last updated: Fri, 22nd Oct 2021, 10:40 AM IST
  • बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रदेश सरकार कराटे की ट्रेनिंग देने की तैयारी कर ली है. 534 ब्लॉक के 1068 स्कूलों में ट्रेनिंग दी जाएगी. इनमें उन स्कूलों का चयन किया गया है जिनमें छात्राओं के नामांकन ज्यादा है. सौ छात्राओं को एक ट्रेनर प्रशिक्षण देगा.
बिहार के स्कूलों में छात्राओं को कराटे का प्रशिक्षण (फाइल फोटो)

पटना. बिहार की बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कराटे ट्रेनिंग दी जाएगी. बेटियां किसी मुकाबले में किसी से पीछे न रहें इसलिए सरकार पहल कर रही है. इसके अंतर्गत पांच लाख 34 हजार स्कूली बेटियों को कराटे की ट्रेनिंग दी जाएगी. इसके लिए प्रदेश के 1068 स्कूल चयनित किये गए हैं.

बिहार शिक्षा परियोजना परिषद के मुताबिक प्रदेशभर के 534 ब्लॉक से दो-दो स्कूल का चयन किया गया है. सूबे से कुल 1068 स्कूल का चयन हुआ है. जहां पर बेटियों को कराटे के प्रशिक्षण दिया जाएगा. उन विद्यालयों का चयन किया गया है जहां पर सबसे ज्यादा बालिकांए है. ये प्रशिक्षण छठ पूजा के बाद शुरू कर दिया जाएगा. बेटियों का आत्मनिर्भर बनाने के लिए कराटे का प्रशिक्षण उन्हें उनके स्कूल में ही दिया जाएगा. इसके अंतर्गत नौवीं से बारहवीं तक की छात्राओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा. ये ट्रेनिंग दो महीने तक चलेगी. बिहार शिक्षा परियोजना परिषद के मुताबिक 2017 में एक बार छात्राओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है जो एक बार फिर चार साल बाद शुरू किया जा रहा है. भारत सरकार द्वारा बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा.

बिहार में विपश्यना केंद्र ध्यान साधना के लिए कर्मचारियों को 15 दिन छुट्टी देगी नीतीश सरकार

अनुभवी ट्रेनर देंगे ट्रेनिंग:

स्कूली छात्राओँ को ट्रेनिंग देने के लिए 684 अनुभवी ट्रेनरों का चयन किया गया. कराटे की ट्रेनिंग वहीं ट्रेनर देंगे जिनके पास कम से कम पांच साल का अनुभव हो.

पांच छात्राओं को बनाया जाएगा ट्रेनर:

जिन छात्राओं को कराटे में रूचि होगी उनमें से किन्हीं पांच छात्राओं का चयन आगे प्रशिक्षण देने के लिए किया जाएगा. हर स्कूल से ऐसी पांच छात्राओँ को आगे प्रशिक्षण देने के लिए तैयार करना है. जो बतौर ट्रेनर आगे अन्य छात्राओं के ट्रेनिंग दे सकें. ट्रेनिंग के उन स्कूलों का चयन किया गया है जहां पर 500 से 1000 तक छात्राओं का नामांकन है. सौ छात्राओं पर एक ट्रेनर नियुक्त किया गया है. कराटे की प्रशिक्षण सुबह या फिर सारी कक्षाएं खत्म होने के बाद दिया जाएगा.

राज्य समन्वय प्रदाधिकारी भूषण ने बताया कि सूबे के 1068 प्लस टू स्कूल की छात्राओं को प्रशिक्षित किया जाएगा. इसकी तैयारी शुरू कर दी गयी है बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए ये पहल की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें