बिहार लाॅकडाउनः पटना में दुकान खोलने का दिन तय, जानें कौन-सी शाॅप कब खुलेगी?

Smart News Team, Last updated: Mon, 31st May 2021, 11:02 PM IST
  • नीतीश सरकार के आदेश पर बिहार की राजधानी पटना में 2 जून से अलग-अलग समूह की दुकानें तय दिन पर खुलेंगी. पटना डीएम चन्द्रशेखर सिंह ने दुकानों की पूरी सूची जारी कर दी है. ये दुकानें सुबह 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक खुलेंगी.
पटना डीएम ने अलग-अलग दिन दुकान खोलने की लिस्ट जारी कर दी है. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में नीतीश सरकार ने लॉकडाउन को 8 जून तक बढ़ा दिया है. बिहार सरकार के आदेश पर पटना में 2 जून से अलग-अलग दिन दुकानें खुलेंगी. इस बारे में पटना जिलाधिकारी ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. कुछ दुकानें सप्ताह में तीन दिन खुलेंगी और कुछ हर रोज खुलेंगी. मिली जानकारी के अनुसार, किराना की दुकानें और सब्जी मंडी रोज खुलेंगी. दुकान सुबह 6 बजे से दोपहर दो बजे तक खुली रहेंगी.

इससे पहले बिहार सरकार के मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि बिहार में दो जून से सभी तरह की दुकानें एक-एक दिन छोड़कर सुबह 6 बजे से दोपहर दो बजे तक खुलेंगी. उन्होंने कहा कि कौन-सी दुकान, कब खुलेगी? इसका फैसला जिलाधिकरी लेंगे. सरकार के गाइडलाइन के हिसाब से पटना डीएम चन्द्रशेखर सिंह ने दिशा-निर्देश जारी किए.

बिहार में CM नीतीश ने 8 जून तक बढ़ाया लॉकडाउन, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

पटना डीएम के आदेश के अनुसार, जरूरी सेवाओं को छोड़कर सभी दुकानें सप्ताह में तीन दिन खुलेंगी. पटना में सोमवार बुधवार और शुक्रवार को इलेक्ट्रिकल शॉप्स, सैलून, पॉर्लर, ऑटोमोबाइल वर्क्स शॉप, वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र और स्टेशनरी आदि खुले रहेंगे. वहीं मंगलवार गुरुवार और शनिवार को कपड़े की दुकान, सोना-चांदी, बर्तन, स्पोटर्स, जूता-चप्पल और निर्माण सामग्री की दुकानें खुलेंगी.

बिहार में उतर रहा कोरोना का बुखार, 37 जिलों में 100 से कम पॉजिटिव मिले

डीएम के आदेश के मुताबिक, किराना की दुकान, डेयरी, फल-सब्जी मंडी, अनाज मंडी, कृषि यंत्र की दुकान, मीट-मछली, पशु चारा की दुकान और पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी रोज सुबह 6 बजे से दोपहर दो बजे तक खुली रहेगी. इसके अलावा मेडिकल, अस्पताल, बैंक, मीडिया, वेयरिंग हाउस को इस नियम से छूट दी गई है. डीएम के इस आदेश में कहा गया है कि सभी को दुकानों और ऑफिस में मास्क लगाना होगा.

पटना डीएम का आदेश

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें