बिहार के विश्वविद्यालयों में किताबों की खरीददारी में गड़बड़ी के आरोप, जांच शुरू

Nawab Ali, Last updated: Tue, 23rd Nov 2021, 10:26 AM IST
  • बिहार के विश्वविद्यालयों में किताबों की खरीददारी में कई गड़बड़ी सामने आई हैं. जिसके बाद विश्वविद्यालयों द्वारा की गई किताबों की खरीददारी की जांच शुरू हो गई है.
बिहार में विश्वविद्यालयों पर किताबों की खरीददारी में गड़बड़ी के आरोप. फाइल फोटो

पटना. बिहार के कई विश्वविद्यालयों में किताबों की खरीददारी में गड़बड़ी का मामला सामने आया है. कई विश्वविद्यालयों में नई किताबों की जगह पुरानी किताबें खरीदी गई इसके साथ ही पुस्तकों की खरीददारी के लिए विद्यालय प्रशासन ने कोई टेंडर भी नहीं कराया है. ज्यादातर विश्वविद्यालयों में एक ही कंपनी को पुस्तकों की खरीददारी के लिए ऑर्डर दिया गया. किताबें खरीददारी को लेकर हुई गड़बड़ी में जांच शुरू हो हो गई है. अभी तक की जांच में पता चला है कि कई किताबें ऐसी खरीदी गई है  जिनकी जरुरत ही नहीं हैं. 

बिहार के कई विश्वविद्यालयों में बिना टेंडर के ही पुस्तक खरीदने के खेल चल रहा है. विश्वविद्यालाओं द्वारा किताबों के लिए एक ही कंपनी को आर्डर देने के बाद मामले में शक गहरा गया. दिल्ली की इंडिका पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीब्यूटर्स प्राइवेट लिमिटेड को विद्यालयों ने किताबों का ऑर्डर दिया था बिहार के आलावा अन्य कई राज्यों ने भी इसी कंपनी को किताबों का ऑर्डर दिया था. किताबों की घोटालेबाजी को लेकर मगध विवि में भी विजिलेंस द्वारा जांच की जा रही है. आरोप हैं कि मगध विश्विद्यालय में मानकों के विरुद्ध किताबों की खरीददारी हुई है जिसकी जांच विजिलेंस अपने स्तर से कर रही है.

बिहार में शादी में शराब पिला रहे लोग, गड़बड़ नहीं तो पुलिस छापा चिंता की बात नहीं: नीतीश

पाटलिपुत्र विश्विद्यालय में तो कॉलेज प्रशासन द्वारा बड़ा खेल किया गया जय. यहां पर कॉलेज प्रशासन ने पांच करोड़ रूपये की किताबें तब खरीदी जब किताबों को रखने के लिए भवन ही नहीं है. जिनकी खरीददारी पूर्व कुलपति जीएस जायसवाल के आदेश पर हुई थी. इतना ही नहीं विश्वविद्यालय पर किताबें रखने का भवन तक नहीं था जब मामले पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे तो 50 लाख रूपये साल के किराये पर भवन खरीदा गया. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें