बिहार मेडिकल कॉलेजों में दाखिले को काउंसलिंग 1 दिसंबर से शुरू, फुल डिटेल्स

Smart News Team, Last updated: Sat, 28th Nov 2020, 4:51 PM IST
  • बिहार के सभी मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के लिए 1 दिसंबर से काउंसलिंग शुरू होगी. नीट के नतीजों के आधार पर और बीसीईसीईबी के माध्यम से नामांकन किया जाएगा. 
बिहार मेडिकल काॅलेजों की काउंसिलिंग 1 दिसंबर से शुरू होगी. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार के सभी मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के निए 1 दिसंबर से काउंसिलिंग शुरू होगी. नीट परीक्षा के नतीजों के आधार पर नामांकन होगा. बिहार मेडिकल कॉलेजों में 1,125 एमबीबीएस सीटों पर और बीडीएस की 243 सीटों के लिए नामांकन होना है. आपको बता दें कि बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पार्षद (बीसीईसीईबी) ने मेडिल कॉलेजों में रजिस्ट्रेशन करने का शेड्यूल जारी किया था. जिसके बाद रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया बीते मंगलवार को खत्म हो गई.

बिहार मेडिकल कॉलेजों में नामांकन के लिए काउंसिलिंग 1 दिसंबर से शुरू होने जा रही है. बिहार मेडिकल कॉलेजों में 1,125 एमबीबीएस सीटों पर और बीडीएस की 243 सीटों के लिए नामांकन होना है. 1 दिसंबर से होने वाली कांउसिंलिंग में नामांकन बिहार संयुक्त प्रवेश परीक्षा बोर्ड के माध्यम से होगी. बीसीईसीईबी ने हाल ही में कहा कि काउंसिंलिंग के समय छात्रों को एलाॅटमेंट लेटर, एडमिट काॅर्ड, रैंक काॅर्ड, पहचान पत्र और मार्कशीट जैसे डाक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए दिखाने पड़ेंगे.

बिहार असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती में 36000 आवेदन, कैंडिडेट दूसरे राज्यों के ज्यादा

आपको बता दें कि बिहार मेडिकल कॉलेजों की काउसिंलिंग में वो ही छात्र बैठ सकते हैं जो छात्र नीट में सफल हुए हैं. नीट के नतीजे के आधार पर ही नामांकन किया जाएगा. हाल ही बिहार की 85 फीसदी मेडिकल सीटों के लिए रैंक जारी हुई थी. बीसीईसीईबी ने मेडिकल सीटों के लिए मेरिट लिस्ट और सीट मैट्रिक्स जारी की थी. जिसमें 696 अंक लाने वालीं आस्था सिन्हा बीसीईसीईबी टाॅपर हुई हैं.

नीतीश पर बरसीं राबड़ी- सबसे बड़ी पार्टी के तेजस्वी को Dy CM बनाना अहसान नहीं

बिहार मेडिकल कॉलेजों के लिए इस बार कट ऑफ 97 नंबर बढ़ गई है. इस सील मेडिकल कॉलेजों के लिए कटऑफ 696 रही. वहीं पिछली साल ये कट आऑफ 599 अंक पर थी. इसके बाद रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हुई थी और अब 1 दिसंबर से मेडिकल कॉलेजों के लिए काउंसिंग शुरू होगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें