मानसून आने की सूचना लेकर आए ओपन बिल्ड स्टॉक पक्षी,लोगों को अच्छी बारिश की उम्मीद

Smart News Team, Last updated: Sun, 23rd May 2021, 8:53 AM IST
  • ओपन बिल्ड स्टॉक नाम के प्रवासी पक्षियों ने दानापुर सेना क्षेत्र में आना शुरू कर दिया है. काले और सफेद रंग के इन खूबसूरत पक्षियों को मानसून आने का सूचक कहा जाता है. इन पक्षियों के यहाँ आने से लोगों को जल्द ही अच्छी बारिश होने की उम्मीद है.
मानसून का सूचक कहे जाने वाले पक्षी ओपन बिल्ड स्टॉक पहुंचे दानापुर सेना क्षेत्र (फाइल फोटो)

पटना. प्रवासी पक्षी ओपन बिल्ड स्टॉक यानी मानसून के आगाज का सूचक कहे जाने वाले पक्षियों ने शनिवार से दानापुर के सेना क्षेत्र में आना शुरू कर दिया है. दानापुर में इन पक्षियों के आने से लोगों में अच्छी बारिश होने की उम्मीद बढ़ गई है. ये पक्षी मानसून आने से पहले यहाँ आ जाते है. जिसके बाद बारिश और ठंडी के मौसम के समाप्त होने पर यहाँ से चले जाते है. ये पक्षी भोजन की खोज में पालीगंज, मसोढ़ी और मौकामा तक चले जाते है. इन खूबसूरत पक्षियों ने सेना क्षेत्र में सब एरिया इलाके में पहुंचकर आसपास के पेड़ों पर फिर से अपना घोंसला बनाना शुरू कर दिया है. इस स्थान को इन पक्षियों की निर्धारित जगह कहा जाता है. 

काले और सफेद रंग के ओपन बिल्ड स्टॉक पक्षी देखने में बेहद खूबसूरत लगते है. इन प्रवासी पक्षियों को साइबेरियन क्रेन और कठजांघिल नाम से भी जाना जाता है. इन पक्षियों की प्रवृत्ति है कि यहाँ पहु्ंचते ही ये अपना घोंसला बनाने में जुट जाते है. ये पक्षी प्रत्येक वर्ष सेना क्षेत्र के आसपास के इलाकों में आते है और सड़क किनारे लगे पेड़ों पर अपना बसेरा डालते है. इस बार भी इन पक्षियों ने अपने बसेरे के लिए इसी स्थान को चुना है. 

पटना के PHC में लगेंगे ऑक्सीजन वाले बेड, कोरोना मरीजों को नहीं होगा अब भटकना

सेना क्षेत्र के सब एरिया, शिव मंदिर एमईएस, आर्मी स्कूल, छावनी परिषद कार्यालय और सैनिक चौक के आसपास वट वृक्ष, अशोक और पीपल के पेड़ों पर ये पक्षी कई सालों से अपना बसेरा डालते आए है. इन पक्षियों के आने से यहाँ का नजारा काफी सुंदर दिखाई पड़ता है. यहाँ आसमान में इन पक्षियों के बहुत से झुंड देखने को मिल रहे है. जिसके कारण यहाँ का नजारा पक्षी विहार जैसा प्रतीत हो रहा है. 

बिहार के गांव में टीका एक्सप्रेस करेगी वैक्सीनेशन, नहीं जाना होगा सरकारी अस्पताल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें