मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का लाभ पाने वालों के लिए जरूरी बदलाव, जानिए डीटेल्स

Smart News Team, Last updated: Sat, 15th May 2021, 7:49 AM IST
बिहार सरकार के मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के आवेदन करने के समय को 10 महीने से घटाकर 3 महीने कर दिया गया है. इस साल से मुख्यमंत्री उद्यमी योजना में नीतीश कुमार सरकार ने पिछड़े वर्ग और सामान्य वर्ग के लोगों को भी शामिल करने का फैसला किया है.
बिहार के मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के आवेदन में किए गए जरूरी बदलाव. (प्रतीकात्मक फोटो)

पटना : बिहार में अपना उद्योग लगाने के लिए एससी एसटी अत्यंत पिछड़ा वर्ग महिला युवा को मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के तहत 10 लाख रुपए देती है. इस बार से मुख्यमंत्री उद्यमी योजना में आवेदन करने वालों की सीमा को बढ़ाते हुए सरकार ने सामान्य और पिछड़े वर्ग के लोगों को भी इस योजना में शामिल कर लिया है. साथ ही इस योजना के आवेदन के लिए निर्धारित किए गए समय को 10 महीने से घटाकर 3 महीने कर दिया गया है.

बिहार मुख्यमंत्री योजना में आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के लिए एक वेब पोर्टल बनाया गया है. इस बार पोर्टल के विंडो से आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के देने वाले जानकारी को तुरंत जांच किया जायेगा और किसी भी तरह की जानकारी में गलती होने की वजह से आवेदन निरस्त कर दिया जाएगा. उद्योग विभाग का यह विंडो आवेदन करने वालों के लिए केवल 3 महीने के लिए खोला जाएगा. जबकि पहले आवेदन करने के लिए 10 महीने का लंबा समय मिलता था. 

बिहार सरकार का DM और SP को निर्देश- मछली, मुर्गी, अंडे की सप्लाई ना बाधित हो

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साल 2018 में मुख्यमंत्री उद्यमी योजना को शुरू किया. योजना के शुरुआती दौर में समाज के सबसे कमजोर वर्ग के लोगों को अपना उद्यम खोलने के लिए सरकार 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देता है. जिसमें से 5 लाख अनुदान के रूप में दिया जाता है. बाकी के पांच लाख रुपए किस्त में वापस करने होते है.शुरुआती दिनों में ही योजना के सकारात्मक प्रभाव की वजह से इसके लाभार्थियों की सीमा में अत्यंत पिछड़ा वर्ग सामान्य और पिछड़े वर्ग के लोगों को भी शामिल कर लिया गया है.

पटनाः कोरोना संक्रमित रेलकर्मियों को मिलेगी 30 दिन की छुट्टी, रेलवे ने दी मंजूरी

HAM नेता मांझी की CM नीतीश कुमार से अपील- बेरोजगारों को 5 हजार रुपए भत्ता दें

लालू यादव गंगा नदी में शव मिलने पर बोले- यूपी, बिहार के बेटों अपनी मां को बचाओ

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें