क्या नीतीश सरकार में सुशील मोदी के बदले कामेश्वर चौपाल बनेंगे डिप्टी सीएम?

Smart News Team, Last updated: Fri, 13th Nov 2020, 6:25 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों के बाद आज एनडीए की बैठक होनी है. बैठक में नए सीएम और डिप्टी सीएम के नाम की चर्चा होगी. सीएम पद के लिए नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम के पद पर कामेश्वर चौपाल के नाम पर फैसला हो सकता है. 
कामेश्वर चौपाल को बिहार का अगला डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों के आज बिहार एनडीए में शामिल पार्टियों के नेताओं की बैठक सीएम नीतीश कुमार के आवास पर होगी. इस अनौपचारिक बैठक में बिहार के नए सीएम के नाम पर फैसला होगा. इस बैठक में सीएम पद के लिए नीतीश कुमार के नाम पर फैसला हो सकता है. साथ ही बिहार का अगला डिप्टी सीएम कामेश्वर चौपाल को बनाया जा सकता है. 

भाजपा नेता कामेश्वर चौपाल के समर्थकों ने शुक्रवार को उन्हें उपमुख्यमंत्री बनाने की मांग के समर्थन में एयरपोर्ट पर नारे लगाए. वहीं कामेश्वर चौपाल ने कहा कि पार्टी उन्हें जो भी जिम्मेवारी देगी वे उसका निर्वाहन करेंगे. आपको बता दें कि कामेश्वर चौपाल अभी किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं लेकिन अयोध्या राम मंदिर जन्मभूमि न्यास समिति के एक सदस्य जरूर हैं,

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी स्थित अयोध्या में साल 1989 में राम मंदिर शिलान्यास के लिए पहली ईंट रखने वाले कामेश्वर चौपाल को बिहार का अगला डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है. कामेश्वर चौपाल वर्तमान में सुशील कुमार मोदी की जगह डिप्टी सीएम बन सकते हैं या दोनों नेताओं को बिहार में डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है.

HAM ने कहा- NDA के नेतृत्व में चुनाव लड़ा, हम उनके साथ बने रहेंगे

कौन हैं कामेश्वर चौपाल

बीजेपी के वरिष्ठ नेता कामेश्वर चौपाल दलित समुदाय से आते हैं. उन्होंने साल 1989 में अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास के लिए पहली ईंट रखी थी. साल 2002 में बिहार विधान परिषद के सदस्य गए. साल 1991 में कामेश्वर चौपाल ने लोजपा के दिवंगत नेता रामविलास पासवान के खिलाफ चुनाव भी लड़ा हैं. हालांकि, वह चुनाव हार गए थे. लोकसभा चुनाव 2014 में कामेश्वर चौपाल बीजेपी की तरफ से पप्पू यादव की पत्नी रंजीता रंजन के खिलाफ चुनाव लड़ थे. इस चुनाव में भी उन्हें कामयाबी नहीं मिल पाई थी.

CM पद पर मैंने नहीं किया कोई दावा, NDA लेगा फैसला: नीतीश कुमार

बिहार के मधुबनी जिले में कामेश्वर चौपाल बतौर आरएसएस के जिला प्रचारक रहे थे. उनकी प्रारंभिक पढ़ाई-लिखाई इसी जिले से हुई है. इसी जगह से वह आरएसएस के संपर्क में आए थे. कामेश्वर चौपाल के एक शिक्षक के आरएसएस के कार्यकर्ता करते थे. इसी शिक्षक की मदद से कामेश्वर चौपाल को कॉलेज में एडमिशन मिला था. ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के बाद वह आरएसएस के प्रति समर्पित हो गए थे. बाद में उन्हें मधुबनी जिले का संघ प्रचारक बनाया गया था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें