बिहार में सरकारी और प्राइवेट बसों का किराया बढ़ा, जानिए कब से लागू होंगी नई दरें

Swati Gautam, Last updated: Mon, 20th Sep 2021, 12:23 PM IST
  • बिहार सरकार ने राज्य की निजी और सरकारी बसों का किराया बढ़ाने का फैसला लिया है. यह नई दरें अगले 30 दिनों में लागू की जा सकती हैं. सिटी बसों के साथ साथ लंबे सफर की बसों का किराया भी बढ़ा है. पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से परेशान बस ऑपरेटर लगातार किराये में बढ़ोतरी की मांग कर रहे थे जिसके चलते राज्य परिवहन विभाग ने यह फैसला लिया है.
बिहार में सरकारी और प्राइवेट बसों का किराया बढ़ा, जानिए कब से लागू होंगी नई दरें (file photo)

पटना. बिहार के लोगों को अब सरकारी और निजी बसों में यात्रा करना भी महंगा पड़ेगा. बता दें कि राज्य परिवहन विभाग ने मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 67 की सब-सेक्शन (1) के तहत बसों में यात्रा करने की नई दरें तय की गई हैं. जिसके चलते बसों के किराए में बढ़ोतरी हो गई है. यह नई दरें अगले 30 दिनों में लागू की जा सकती हैं. वहीं दूसरी और प्राइवेट बसों के कराए बढ़ाने को लेकर निजी बस ऑपरेटरों से अनुरोध किया है कि किराए को 5 से 20 फीसदी तक बढ़ा दिया जाए.

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि लगभग तीन साल बाद बसों के किराए में संशोधन किया जा रहा है. इसके पीछे का कारण लगातार बढ़ रहे पेट्रोल डीजल के कीमतें माना जा रहा है. संजय ने बताया कि पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से परेशान बस ऑपरेटर लगातार किराये में बढ़ोतरी की मांग कर रहे थे. यह फैसला बस ऑपरेटर और यात्रियों के हित में लिया गया. बता दें कि परिवहन विभाग न केवल राज्य की निजी और सरकारी बसों का किराया बढ़ाया है बल्कि लंबी दूरी की बसों के किराए में भी वृद्धि की गई है.

बिजली उपभोक्ताओं को बड़ा झटका, बकाया बिल न चुकाने पर अभियान चलाकर काटे जा रहे कनेक्शन

संशोधित किराये का पूरा प्रस्ताव अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दिया है. परिवहन सचिव ने जानकारी दी की अब से हर 6 महीने में बसों के किराए में संशोधन होगा. इसका आधार उस समय के पेट्रोल और डीजल को कीमत होगा की किराए को बढ़ाना चाय या घटाना. उन्होंने बताया कि आखिरी बार बसों के किराए में संशोधन 2018 में हुआ था. राज्य परिवहन विभाग द्वारा तय की गई बसों के किराए की नई दरों के चलते यात्रियों को जागरूक करने के लिए हर बस स्टैंड पर किराए को लेकर अपडेट भी किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें