बिहार में गुड़-खांडसारी उधोग लगाने पर 50 फीसदी तक अनुदान देगी नीतीश सरकार

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 13th Dec 2021, 10:16 AM IST
  • बिहार में नीतीश सरकार गुड़-खांडसारी उधोग लगाने पर 50 फीसदी तक सब्सिडी देगी. दरअसल, बिहार गुड़ खांडसारी उधोग प्रोत्साहन नीति में इसका प्रावधान किया गया है. राज्य मंत्रिपरिषद की मुहर के बाद इसे लागू कर दिया जाएगा.
राज्य मंत्रिपरिषद की मुहर के बाद गुड़ खांडसारी उधोग प्रोत्साहन नीति लागू कर दिया जाएगा.

पटना. राज्य में खांडसारी उधोग लगाने पर नीतीश सरकार 50 फीसदी तक सब्सिडी देगी. साथ ही मशीनरी और पूंजी से लेकर जमीन तक में निवेश पर अलग-अलग प्रोत्साहन दिया जाएगा. दरअसल, बिहार गुड़ खांडसारी उधोग प्रोत्साहन नीति में इसका प्रावधान किया गया है. नीति का प्रारूप तैयार कर लिया गया है. राज्य मंत्रिपरिषद की मुहर के बाद इसे लागू कर दिया जाएगा.

दरअसल, नीतीश सरकार की योजना जैविक गुड़ का व्यापक उत्पादन कराने की है. पश्चिमी देशों में औषधि के उत्पादन में इसकी काफी खपत होती है. भारत में भी दवाओं के उत्पादन में इसकी डिमांड है. इसलिए बिहार से बड़े पैमाने पर जैविक गुड़ का निर्यात संभव हो सकता है. राज्य सरकार इसके लिए जैविक गन्ने के उत्पादन पर जोर दे रही है. प्रस्तावित गुड़-खांडसारी उधोग प्रोत्साहित नीति में जैविक गुड़ और जैविक खांडसारी के उत्पादन के लिए अतिरिक्त सहूलियतों और रियायतों के देने का प्रावधान किया गया है.

राजगीर और मंदार पर्वत के बाद बिहार में इन स्थानों पर बनेगा रोप-वे, पर्यटन विभाग ने दी जानकारी

गुड़ और खांडसारी के उत्पादन में आधुनिक तकनीक को बढ़ावा देकर उत्पादन और प्रसंस्करण को भी बढ़ाया जा सकता है. इससे निर्यात गुणवत्ता वाली गुड़ और खांडसारी का उत्पादन हो सकेगा. चीनी मिल से 15 किलोमीटर की दूरी पर खांडसारी उधोग लगाने की अनुमति और इसे विस्तार दिया जाएगा. दरअसल, सरकार की इस योजना से बिहार के लोग सरकारी सहूलियतों और रियायतों का फायदा उठाकर खुद या समूह में खांडसारी उधोग लगा सकते हैं. इसमें कुछ और लोगों को जोड़कर रोजगार बढ़ा सकते हैं. प्रदेश के गन्ना उत्पादकों को भी कमाई का बेहतर विकल्प मिल सकेगा. बताते चलें कि बिहार में खांडसारी उधोग लगाने पर नीतीश सरकार 50 फीसदी तक सब्सिडी देगी. साथ ही मशीनरी और पूंजी से लेकर जमीन तक में निवेश पर अलग-अलग प्रोत्साहन दिया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें